सरकार का समर्थन मिले तो BSNL प्राइवेट कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम: महासचिव

 
सरकार का समर्थन मिले तो BSNL प्राइवेट कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम: महासचिव
नई दिल्ली। सरकारी स्वामित्व वाले भारत संचार निगम (बीएसएनएल) के कर्मचारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बीएसएनएल को देरी किए बिना संकट से बाहर निकालने का आग्रह किया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार BSNL के महासचिव के. सेबेस्टियन ने पीएम को लिखे पत्र में कहा, कर्मचारियों को बहुत विश्वास है कि बीएसएनएल को तीन से चार वर्षों में पुनर्जीवित किया जा सकता है और लाभदायक बनाया जा सकता है. 26 सितंबर को बीएसएनएल के पुनरुद्धार पर पीएम के प्रधान सचिव पी के मिश्रा द्वारा बुलाई गई बैठक में यह सवाल तय नहीं हो सका कि क्या यह संभव है।

बीएसएनएल ने सरकार से अपने कर्ज को कम करने के के लिए वित्तीय मदद मांगी है. कंपनी का कहना है कि इसे संकट इ बाहर लाया जा सकता है. कर्मचारियों का यह भी कहना है कि अगर सरकार का समर्थन मिले तो वे निजी दूरसंचार कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम हैं।

सरकार ने बीएसएनएल को 4 जी स्पेक्ट्रम आवंटित नहीं किया, हालांकि टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया के आंकड़ों के अनुसार, बीएसएनएल की 3 जी सेवा विभिन्न शहरों में अन्य ऑपरेटरों की 4 जी सेवा से बेहतर है। 

From around the web