बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में लापरवाही पर कार्रवाई

 
बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में लापरवाही पर कार्रवाई
ठाकुरद्वारा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के डीजीएम ने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में लापरवाही पर डाक्टरों समेत चिकित्साकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की है, वहीं चार स्कूलों के सहयोग नहीं करने पर प्रधानाचार्यों के खिलाफ कार्रवाई के लिए जिला विद्यालय निरीक्षक को लिखने का आदेश दिया है। 

लखनउ से राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के डीजीएम डा. आनंद अग्रवाल ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का आकस्मिक निरीक्षण किया। उन्होंने चिकित्सा सेवाओं के साथ बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा की तो दोनों टीमों के कार्य में लापरवाही दिखाई दी। टीमों ने स्कूलों में पहुंचकर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं किया था। 

इसके साथ ही भ्रमण की भी रिपोर्ट नहीं बनाई थी। प्रति सोमवार स्कूलों में आयरन की गोली भी नहीं खिलाई गई। लिहाजा डीएम ने टीमों में शामिल डाक्टर मनोज कुमार, डाक्टर ग्यासुद्दीन, डा. साजिद अख्तर, डा. विनती, नेत्र सहायक वेदप्रकाश, एएनएम अर्चना, मोनिका, अनुभव शर्मा के खिलाफ कार्रवाई की सीएमओ को रिपोर्ट दी है। इसके साथ ही चार स्कूलों के सहयोग नहीं करने का मामला भी प्रकाश में आया। 

स्कूल प्रधानाचार्यों ने रिपोर्ट नहीं दी थी। इसमें राजकीय इंटर कालेज ठाकुरद्वारा, राजकीय जूनियर हाईस्कूल टांडा अफजल, आरपीएस इंटर कालेज रतूपुरा, जनता इंटर और मुस्लिम इंटर कालेज शामिल हैं। 

इनके प्रधानाचार्यों के खिलाफ कार्रवाई के लिए चिकित्साधीक्षक डा. नितिन आनंद पंत को जिला वि़द्यालय निरीक्षक को लिखने के आदेश दिया है। इसके साथ ही अस्पताल में मरीजों और तीमारदारों को भोजन नहीं मिलने की शिकायत सामने आने पर चिकित्साधीक्षक को भोजन की व्यवस्था सही करने का निर्देश दिया।

From around the web