शौहर से तलाक के बाद लिवइन में रहने लगी महिला, नाजायज' प्यार का हुआ ऐसा अंत...

 
शौहर से तलाक के बाद लिवइन में रहने लगी महिला, नाजायज' प्यार का हुआ ऐसा अंत...
देहरादून। आठवीं पास समरजहां शादी से पहले ही दवा कारोबार से जुड़ी और इसी दौरान वह दवा विक्रेता राकेश कुमार गुप्ता के संपर्क में आई थी। समरजहां का निकाह गाजियाबाद के दादरी इलाके में हुआ था, लेकिन वह ससुराल में एक माह ही रह पाई थी।

शौहर से तलाक के बाद समरजहां दवा विक्रेता के साथ लिव इन रिलेशन में रहने लगी थी। करीब ढाई साल वह रुड़की में रही और कुछ ही दिन पहले देहरादून आई थी।

मुजफ्फरनगर पुलिस की मदद से खंगाली गई पारिवारिक पृष्ठभूमि में कई चौंकाने वाली बात सामने आई हैं।
सात मई की रात सहस्त्रधारा रोड पर बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग कर समरजहां की हत्या कर दी थी।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार मुजफ्फरनगर में न्याजूपुरा निवासी समरजहां उर्फ रिहाना के पिता बिजली का काम करते हैं। तीन बहनों और दो भाइयों में समरजहां बड़ी थी। परिवार में आर्थिक संकट के चलते समरजहां मेडिकल एजेंसी संचालक से जुड़कर दवा सप्लाई करने का काम किया।


इसी दौरान वह मुजफ्फरनगर निवासी दवा विक्रेता राकेश कुमार गुप्ता के करीब आई। वक्त के साथ उनकी नजदीकियां बढ़ती गईं, लेकिन इसी बीच समरजहां का निकाह दादरी निवासी मुमताज से हो गया।

हालांकि, यह रिश्ता ज्यादा दिन नहीं चला। एक माह बाद ही समरजहां मायके लौट आई और उनके बीच तलाक हो गया।

From around the web