अमित शाह में साहस नहीं कि वह नोटबंदी-जीएसटी पर जनता को खुलकर बता सकें : शैलेष नितिन त्रिवेदी

 
अमित शाह में साहस नहीं कि वह नोटबंदी-जीएसटी पर जनता को खुलकर बता सकें : शैलेष नितिन त्रिवेदीरायपुर। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के डोंगरगढ़ की चुनावी सभा के बयान पर प्रदेश कांग्रेस ने पलटवार किया है। कांग्रेस ने कहा कि पिछले 60 महीने से केन्द्र की मोदी सरकार सीबीआई को विपक्षी दल के नेताओं के खिलाफ हथियार की तरह इस्तेमाल कर रही है। ऐसे में एक बार फि र अमित शाह ने सीबीआई को हथियार बनाने की मंशा जाहिर की है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी ने एक बयान में कहा कि अमित शाह जनता को गुमराह करने के बजाय राज्य में पूर्व की भाजपा सरकार द्वारा राजपत्र में आदेश जारी कर साल.2012 में सीबीआई को बिना अनुमति कार्यवाही करने से रोकने का स्पष्ट कारण बताएं।
कांग्रेस ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो केन्द्र की उन योजनाओं के बारे में बताएं जो देश के आर्थिक विकास और नवनिर्माणए रोजगार के नये अवसर पैदा करने में सहायक साबित हुई हो। शाह अपने घोषणा पत्र के चार वायदों विदेश से कालाधन, हरेक खाते में 15 लाख, हर साल 02 करोड़ रोजगार देने के बारे में किये गये वादों का ही हिसाब दें। शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि अमित शाह में साहस नहीं है कि वह नोटबंदी और जीएसटी के बारे में देश की जनता के सामने कुछ बोल पाएं। देश और छत्तीसगढ़ का युवा हर साल दो करोड़ रोजगार के बारे में जानना चाहता है। देश के किसान उनकी ऊपज की कीमत के बारे में जानना चाहते हैं। लोग 15 लाख की जुमलेबाजी और विदेश से कालाधन लाने की सच्चाई भी जानना चाहते हैं। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि रमन राज के 15 सालों में बस्तर के चार ब्लॉक से निकलकर माओवाद राज्य के 14 जिलों तक पहुंच गया। पांच साल में मोदी सरकार की नक्सल नियंत्रण की उदासीनता का भी अमित शाह को जवाब देना था।

From around the web