जीएसटी हटने से चमकीली हुई राखी

 
जीएसटी हटने से चमकीली हुई राखी
सभी तरह की राखियों के जीएसटी मुक्त होने के एक साल बाद बाजारों में रौनक दिख रही है। पारंपरिक राखी निर्माता और डीलर्स ने इस साल राखियों में ग्लास, बीड्स, स्टोन का बेधड़क इस्तेमाल किया है और सेल्स भी पिछले साल के मुकाबले 20त्न ज्यादा बताई जा रही है। हालांकि राखियों की बढ़ती ऑनलाइन डिमांड के बीच ई-कॉमर्स और गिफ्टिंग प्लैटफॉर्म अच्छी कमाई कर रहे हैं। उन्होंने इस साल ऑर्डर में 40त्न तक ग्रोथ दर्ज की है।
राखियों के होलसेल हब सदर बाजार की फर्म अनिल भाई राखी वाले के मुताबिक, पिछले साल राखियों से जीएसटी त्योहार से ऐन पहले हटाया गया था, जिससे कोई खास लाभ नहीं मिला था, लेकिन इस बार मैन्युफैक्चरर्स और ट्रेडर्स के पास पूरे एक साल का समय था। इसका सेल्स पर पॉजिटिव असर पड़ा है। कीमतों में भी कमी आई है।
पिछले साल तक ग्लास बीड वाली राखियों पर 18त्न तो जरी, नायलॉन, सिल्क पर 12 पर्सेंट तक टैक्स लग रहा था। राखी का कोई विशेष स्लैब न होकर रॉ मैटीरियल या इनपुट के हिसाब से दरें तय की गई थीं, जिसमें कई विसंगतियां थीं। इस साल सब कुछ क्लियर है और मैन्युफैक्चरर्स ने ग्लास, प्लास्टिक बीड्स, स्टोन और अन्य जडि़त वस्तुओं का धड़ल्ले से इस्तेमाल किया है।
साल थोक बिक्री 20त्न ज्यादा दर्ज की गई है। ऑनलाइन वेंडर्स की ओर से डिमांड साल दर साल बढ़ रही है। गिफ्टिंग प्लैटफॉर्म फर्न्स ऐंड पेटल्स ने इस साल 100 से ज्यादा देशों में राखी डिलिवरी सर्विस लॉन्च की है। कंपनी के प्रवक्ता ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले ऑर्डर्स में 40त्न की ग्रोथ दर्ज की गई है, जिसमें 50त्न अमेरिका, यूके, यूएई, सिंगापुर, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया के लिए हैं। लुंबा, मौली, सिल्वर, पर्ल, रुद्राक्ष, चंदन सहित सभी तरह की राखियों की डिमांड बढ़ी है।

From around the web