दहेज उत्पीडऩ में पति, सास और ससुर समेत 11 लोगों पर मुकदमा दर्ज

 
दहेज उत्पीडऩ में पति, सास और ससुर समेत 11 लोगों पर मुकदमा दर्ज
रुडकी। दहेज उत्पीडऩ में पति, सास और ससुर समेत ग्यारह लोगों पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। गंगनहर कोतवाली क्षेत्र निवासी महिला ने तहरीर देकर बताया कि उसकी गांव बबैल बुजुर्ग बेहट जिला सहारनपुर निवासी दीपक शर्मा से नवम्बर 2016 में शादी हुई थी।

शादी में परिवार ने कार, जेवरात, घरेलू सामान समेत करीब तीस लाख रुपये का दहेज दिया था। आरोप है कि इतना सब कुछ मिलने के बावजूद ससुराल पक्ष ने दहेज कम लाने की बात कही। शादी के बाद दो माह की गर्भवती होने पर मारपीट की गई।

मारपीट के दौरान रुड़की स्थित अस्पताल में उसका गर्भपात हो गया। मायके पक्ष के लोगों ने कई बार ससुरालियों को समझाया। बार-बार पांच लाख रुपये और कार की डिमांड की जाती रही। विरोध करने पर तलाक की धमकी देकर पति दीपक की दूसरी शादी करने की बात कही जाती थी। आरोप है कि शादी के बाद से ही लगातार उसे दहेज के लिए प्रताडि़त किया जाता रहा है।

2017 में दोबारा गर्भवती होने पर वह प्रसव पीड़ा होने पर रुड़की छोड़कर चली गए। पुत्र होने पर ससुरालियों ने चरित्र पर सवाल उठाकर घर लेकर जाने से मना कर दिया। आरोप है कि फरवरी 2018 में ससुराल पक्ष के लोगों ने मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया। पुत्र को भी नाजायज बताकर जान से मारने की धमकी दी गई।

इंस्पेक्टर राजेश शाह ने बताया कि गांव बबैल बुजुर्ग बेहट जिला सहारनपुर निवासी पति दीपक शर्मा, ससुर नरेंद्र शर्मा, सास सुनीता, जेठ रजनीश शर्मा उर्फ नींटू, जेठानी रेखा, पति की भतीजी विभा, जीवनगढ़ विकासनगर देहरादून निवासी दीपा, मामा रजनीश शर्मा उर्फ बबलू और रक्षित निवासी गांव ब्राह्मण माजरा जिला सहारनपुर, मामी संगीता, निशा निवासी काशीपुरी गंगनहर कोतवाली क्षेत्र रुड़की पर दहेज उत्पीडऩ, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में केस दर्ज किया है।

From around the web