कांग्रेस को सिर्फ केरल और पंजाब का सहारा, कई राज्यों में सूपड़ा साफ

 
कांग्रेस को सिर्फ केरल और पंजाब का सहारा, कई राज्यों में सूपड़ा साफ
नई दिल्ली। प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस का केरल और पंजाब छोड़कर अन्य राज्यों में एक बार फिर सफाया होता नजर आ रहा है। चुनाव आयोग के दोपहर तक मिले रुझानों के अनुसार कांग्रेस को पिछले आम चुनाव की तरह इस बार भी भारतीय जनता पार्टी के हाथों करारी शिकस्त मिलती दिख रही है और अब तक वह 542 सीटों में से सिर्फ 50 सीटों पर ही बढत बनाए हुए है।
पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी परंपरागत सीट अमेठी से पिछड रहे हैं। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी अपनी परंपरागत सीट रायबरेली से आगे चल रही हैं लेकिन मल्लिकार्जुन खडगेे, दिग्विजयसिंह, शीला दीक्षित, सलमान खुर्शीद, भूपेंद्रसिंह हुड्डा, हरीश रावत, सुशील कुमार शिंदे, कुमारी सैलजा जैसे पार्टी के दिग्गज पीछे चल रहे हैं। इस चुनाव में बुरी तरह पिछड़ रही कांग्रेस को सिर्फ केरल और पंजाब में कुछ राहत मिलती दिख रही है। अन्य राज्यों में उसका सफाया होता नजर आ रहा है।
केरल की 20 सीटों मेंवह 15 पर आगे चल रही है। राज्य की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ रहे श्री गांधी ने अच्छी खासी बढत बना ली है। पंजाब की 13 सीटों में से कांग्रेस आठ सीटों पर आगे चल रही है। गत दिसम्बर में कांग्रेस जिन तीन राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ में सरकार बनाने में सफल रही थी वहां भी उसे करारी शिकस्त का सामना करना पड़ रहा है।
राजस्थान में जहां उसका खाता भी नहीं खुल रहा है वहीं मध्य प्रदेश में उसे महज एक सीट पर और छत्तीसगढ में वह दो सीट पर आगे चल रही है। मध्य प्रदेश में पार्टी महासचिव ज्योतिरादितय सिंधिया अपने गढ गुना में पीछे चल रहे हैं। पिछले चुनाव की तरह इस बार भी गुजरात, उत्तराखंड, हिमाचल, दिल्ली, हरियाणा जैसे राज्यों में उसका सूपड़ा साफ होता दिख रहा है।

From around the web