बिना किसी ट्यूशन और कोचिंग के टॉपर बनी दरजी की बेटी पलक

 
बिना किसी ट्यूशन और कोचिंग के टॉपर बनी दरजी की बेटी पलक
हरियाणा में कॉमर्स संकाय में प्रदेश में पहला स्थान हासिल करने वाली पलक का नाम टॉपर्स की लिस्ट में देख परिजन खुशी से झूम उठे। घर पर बधाई देने वालों का तांता लगना शुरू हो गया।

पीजीएसडी सीनियर सेकंडरी स्कूल हिसार की छात्रा पलक के पिता अश्विनी कुमार टेलर हैं। मां हाउसवाइफ हैं। इस दंपती की दो ही बेटियां हैं, जिनमें पलक बड़ी है तो छोटी बेटी नौवीं क्लास में है। 

अपनी कामयाबी के बारे में पलक ने बताया वह सुबह की पढ़ाई को सबसे बेहतर मानती है, क्योंकि इस वक्त आदमी का दिमाग एकदम ताजा होता है। बकौल पलक मैं सुबह 5 से 8 बजे तक पढ़ती थी। इसके बाद नहा-धोकर और खा-पीकर स्कूल चले जाती थी।

फिर स्कूल से आने के बाद आराम करती थी और शाम के वक्त थोड़ा सा स्कूल में मिला होमवर्क पूूरा करती थी। इसके बाद रोज सुबह वही स्कूल में पढ़े हुए को रिवाइज करने का काम।

पलक से जब पूछा गया, कॉमर्स की पढ़ाई के लिए कभी ट्यूशन की जरूरत नहीं पड़ी तो उसने बड़े पते की बात कही कि अगर क्लास में शरीर और मन को एक साथ रखकर बैठा जाए और फिर रोज का काम रोज पूरा कर लिया जाए तो फिर किसी ट्यूशन या नोट्स वगैरह की जरूरत ही नहीं।

From around the web