क्या ज़्यादा ऊंचाई के पुलिस अफसर इसलिए चाहिए ताकि वे ज़्यादा झुकें?

 
क्या ज़्यादा ऊंचाई के पुलिस अफसर इसलिए चाहिए ताकि वे ज़्यादा झुकें?
रवीश कुमार 
बिहार के नरकटियागंज से अनामिका ने लिखा है कि बिहार में डीएसपी बनने के लिए 155 सेंटीमीटर ऊंचाई चाहिए लेकिन दारोगा के लिए 160 सेंटीमीटर। 5 सेंटीमटर कम होने के कारण वह दरोगा की परीक्षा का फार्म नहीं भर पाएगी। फिर मैंने गूगल करना शुरू किया। पुरुषों और महिलाओं की ऊंचाई का अंतर 5 सेंटीमीटर होता है।5 सेंटीमीटर कम ऊंची महिला कैसे अपने काम में 5 सेंटीमीटर अधिक ऊंचे मर्द से कमतरह होगी यह मुझे समझ नहीं आया। क्या ज़्यादा ऊंचाई के पुलिस अफसर इसलिए चाहिए ताकि वे ज़्यादा झुकें?

गूगल करने लगा। हर राज्य में पुलिस कांस्टेबल और दरोगा बनने की ऊंचाई अलग-अलग है। पंजाब में 160 सेंटीमीटर चाहिए तो हरियाणा में महिलाओं की ऊंचाई 158 सेंटीमीटर होनी चाहिए। पांच साल पहले यह 160 सेंटीमटर था मगर सरकार की मेहरबानी देखिए दो सेंटीमीटर की कमी कर दी गई। महाराष्ट्र और दिल्ली में 157 सेंटीमीटर चाहिए और असम में 154.94 सेंटीमीटर। उत्तर प्रदेश में 152 सेंटीमीटर है।

दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के लिए लड़कों का क़द 170सेंटीमीटर होना चाहिए लेकिन बिहार में लड़के 165 सेंटीमीटर पर ही सब इंस्पेक्टर बन जाएँगे।

2014 की खबर है। चीन की सेना ने ऊंचाई में कमी कर दी है। पुरुषों के लिए 162 से घटाकर 160 सेंटीमीटर कर दिया है और महिलाओं के लिए 160 से 158 सेंटीमीटर।

मुझे लगता है कि अनामिका की बात सही है। हर देश ने अपने हिसाब से ऊंचाई में कमी की है। बिहार भी कर सकता है। कम ऊंचाई से कोई कम पुलिसवाला बनता है ऐसा नहीं है।
(ये लेखक मशहूर पत्रकार व न्यूज़ एंकर हैं)

From around the web