ईदे ग़दीर का जश्न: खुशी से झूम उठे शिया समुदाय के लोग...

 
ईदे ग़दीर का जश्न: खुशी से झूम उठे शिया समुदाय के लोग...
राम मिश्रा, अमेठी। शिया समुदाय के मतानुसार हज़रत अली अलैहिस्सलाम को पैग़म्बरे इस्लाम द्वारा अपने बाद पहला ख़लीफ़ा व इमाम नियुक्त करने की घटना ग़दीर नामक स्थान पर हुई जो मक्के से कुछ दूरी पर स्थित है यह महत्वपूर्ण घटना हिजरी क़मरी वर्ष के 12वें महीनें ज़िलहिज्जा की 18 तारीख़ को हुई।

इस अवसर पर पूरा हिंदुस्तान ख़ुशियों में डूबा गया। उत्तर प्रदेश के जनपद अमेठी में मंगलवार को जगह जगह शर्बत और मिठाइयां बांटी गई और लोग एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी।

इसी क्रम में हजरत अली के ऐलान ए विलायत यानि ईद-ए-गदीर पर मुसाफिरखाना के भनौली गाँव में धूमधाम से जश्न मनाया गया। इस दौरान इमामबाड़ों व घरों में महफिलों व नज्र ए मौला का आयोजन किया गया। महफिल में शायर-ए-अहलेबैत ने अपना कलाम पेश किए। वहीं, सुबह ईद-ए-गदीर पर भनौली की जामा मस्जिद इमामबाग में गदीर की नमाज का आयोजन किया गया, जिसमें लोगों ने आमाल किया।

गाँव में धूमधाम से जश्ने ईद ग़दीर का जुलूस निकाला गया। ये जुलूस जामा मस्जिद इमामबाग से भ्रमण करते हुए इसौली रोड के रास्ते बड़ा इमामबाड़ा पहुंचकर धार्मिक रीति रिवाज के साथ समाप्त हुआ। इस अवसर पर जुलूस में शामिल नौजवानों, बच्चों एवं बुजुर्गों ने लाल रंग का परिधान धारण कर अपनी खुशी का इजहार किया और मौला अली की शान में जमकर नारेबाज़ी की। लोगों ने एक दूसरे को गले लगाकर एक दूसरे को बधाईयाँ दी और बच्चों को ईदी बांटी गई। जुलूस के दौरान नौजवान भारतीय तिरंगे को लेकर देशभक्ति से ओतप्रोत दिखे।

इस मौके पर जीशान हैदर ,सिपर अब्बास, मौलाना आसिफ रिज़वी,हैदर हुसैन 'प्रधान', कुमैल रिज़वी 'पत्रकार',हुसैन मोहम्मद,हसनैन हैदर,हसन मोहम्मद,मो इमरान,फरमान हैदर,मूसा रजा सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।

From around the web