48 हजार रुपये के लालच में शादीशुदा भी ले रहे दोबारा फेरे...

 
48 हजार रुपये के लालच में शादीशुदा भी ले रहे दोबारा फेरे...
मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में बड़ी गड़बड़ी सामने आ रही है। दरअसल, कमलनाथ सरकार के आने के बाद योजना के तहत वधू को 51 हजार स्र्पए नकद देने की व्यवस्था है। इसमें से तीन हजार स्र्पए व्यवस्था के नाम पर काटे जाते हैं। बाकी बचे 48 हजार स्र्पए वधू के खाते में जमा होने के लालच में शादीशुदा जोड़े दोबारा फेरे ले रहे हैं। जुलाई से अभी तक 1158 शादियों के पंजीयन में से 517 दोबारा शादी करने के मामले सामने आए हैं।

ताजा मामला इंदौर के समीप महू के आसपास के गांवों का है। महू जनपद क्षेत्र में छह जून को यशवंत नगर व आठ जून को राजपुरा कुटी में सामूहिक विवाह के आयोजन किए गए। यशवंत नगर में 438 जोड़ों के विवाह कराए गए, जिनके आवेदनों की जांच में 110 जोड़े अपात्र निकले।

राजपुरा में हुए सामूहिक विवाह में 300 जोड़ों के विवाह कराए गए। जांच में 82 जोड़े अपात्र निकले। इससे पूर्व जुलाई माह में श्योपुर जिले में 420 जोड़ों के पंजीयन में से 325 जोड़े ऐसे थे, जो पहले से शादीशुदा थे। मालूम हो, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में पहले 21 हजार स्र्पए कीमत का गृहस्थी का सामान दिया जाता था। नकद राशि देने का प्रावधान नहीं था।

दोनों आयोजनों में बड़ी संख्या में अपात्र जोड़े पाए गए, जिन्हें शासन की राशि नहीं दी जाएगी। संभवत: ऐसा पहली बार हुआ होगा, जब इतनी बड़ी संख्या में अपात्र जोड़े निकले।
-हेमेंद्र कुमार चौहान मुख्य कार्यपालन अधिकारी महू जनपद पंचायत, इंदौर

From around the web