मदरसों में गोडसे, प्रज्ञा पैदा नहीं होते: आजम खान

 
मदरसों में गोडसे, प्रज्ञा पैदा नहीं होते: आजम खान
रामपुर। समाजवादी पार्टी के फायरब्रैंड नेता आजम खान ने विवादित बयान देते हुए कहा है कि मदरसों से नाथूराम गोडसे या फिर प्रज्ञा सिंह ठाकुर जैसे लोग नहीं निकलते। मदरसों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने की पीएम मोदी की योजना को लेकर पूछे जाने पर आजम खान ने यह बयान दिया। एनबीटी की रिपोर्ट के अनुसार आजम ने कहा, मदरसों से नाथूराम गोडसे जैसे स्वभाव वाले या फिर प्रज्ञा सिंह ठाकुर जैसे व्यक्तित्व वाले लोग नहीं निकलते। सबसे पहले यह ऐलान किया जाना चाहिए कि नाथूराम के विचारों को जो फैला रहे हैं, वे लोकतंत्र के दुश्मन हैं। जो आतंकी गतिविधियों के आरोपी हैं, उन्हें सम्मान नहीं दिया जाएगा।

मालेगांव बम धमाके के मामले में आरोप झेल रहीं प्रज्ञा सिंह ठाकुर फिलहाल बेल पर बाहर हैं। इस बीच उन्होंने पिछले महीने हुए आम चुनाव में मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से जीत हासिल की थी।

उन्होंने कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को मात दी थी। अपने चुनाव प्रचार के दौरान साध्वी प्रज्ञा ने महात्मा गांधी की 1948 में हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को 'देशभक्त' करार दिया था। इस पर काफी विवाद हुआ था।

आजम खान ने कहा कि यदि केंद्र सरकार मदरसों को मदद करना चाहती है तो उसे इनमें कुछ सुधार करना होगा। यूपी में एसपी के जीते 5 सांसदों में से एक आजम खान ने कहा, 'मदरसों में धार्मिक शिक्षण दिया जाता है। इन्हीं में इंग्लिश, हिंदी और गणित भी पढ़ाया जाता है। यह हमेशा किया जाता रहा है। यदि आप मदद करना चाहते हैं तो फिर उनके स्टैंडर्ड में सुधार करें। मदरसों के लिए इमारतें बनाएं, फर्नीचर मुहैया कराएं और मिडडे मील दें।' 

From around the web