हाई अलर्ट जारी: ओडिशा तट से टकराया चक्रवाती फोनी तूफान, तेज हवाओं के साथ बारिश

 
हाई अलर्ट जारी: ओडिशा तट से टकराया चक्रवाती फोनी तूफान, तेज हवाओं के साथ बारिश
भुवनेश्वर। ओडिशा में फोनी तूफान ने दस्तक दे दी है। चक्रवात फोनी ओडिशा तट से टकरा गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, ओडिशा के पुरी समेत कई इलाकों में 200 किलोमीटर/घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। निचली बस्तियों में पानी भर गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, यह बंगाल से होता हुआ बांग्लादेश की तरफ बढ़ेगा ऐसे में पश्चिम बंगाल के तटवर्ती इलाकों में भी चेतावनी जारी कर दी गई है। ओडिशा में एहतियात के तौर पर 15 जिलों से 11 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया गया है। यह 20 साल में ओडिशा से टकराने वाला सबसे खतरनाक तूफान है।

एनडीआरएफ की 28, ओडिशा डिजास्टर मैनेजमेंट रैपिड ऐक्शन फोर्स की 20 यूनिट और फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट के 525 लोग रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए तैयार हैं। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की 302 रैपिड रेस्पॉन्स फोर्स टीम तैनात की गई हैं। इमरजेंसी नंबर जारी कर दिए गए हैं। ओडिशा- 06742534177, गृह मंत्रालय- 1938, सिक्युरिटी- 182।

नौसेना के 3 जहाज राहत कार्य के लिए तैनात
तटरक्षक बल ने कहा है कि चक्रवाती तूफान फोनी को देखते हुए 34 राहत दलों और चार तटरक्षक पोतों को राहत कार्य के लिए तैनात किया गया है। नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने दिल्ली में कहा कि नौसेना के पोत सहयाद्री, रणवीर और कदमत को राहत सामग्री और चिकित्सा दलों के साथ तैनात किया गया है। ये चक्रवात के तटीय इलाके से गुजरने के फौरन बाद राहत कार्य शुरू कर देंगे।

तटीय जिलों में यातायात बंद
तटीय जिलों में रेल, सड़क और हवाई यातायात पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। गुरुवार मध्यरात्रि से बीजू पटनायक इंटरनैशनल एयरपोर्ट पर सभी उड़ानें 24 घंटे के लिए रोक दी गई हैं। कोलकाता एयरपोर्ट भी शुक्रवार रात से शनिवार शाम 6 बजे तक बंद रहेगा।

चक्रवात से ओडिशा के 14 जिले प्रभावित होंगे
तूफान दोपहर के आसपास पुरी पहुंचेगा। इसके बाद पश्चिम बंगाल का रुख करेगा। इसका असर आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु के उत्तर-पूर्व इलाकों में भी दिखेगा। चक्रवात से ओडिशा के 14 जिले प्रभावित होंगे। इसमें पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपारा, बालासोर, भदरक, गंजम, खुर्दा, जाजपुर, नयागढ़, कटक, गाजापटी, मयूरभंज, ढेंकानाल और कियोंझार शामिल हैं। इन जिलों के करीब 10 हजार गांव चक्रवात से प्रभावित होंगे।

बंगाल से भी निकाले जा रहे सैलानी
यह तूफान पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ेगा, ऐसे में यहां दिघा, मदारमणि, शंकरपुर, ताजपुर और अन्य पर्यटन स्थलों से सैलानियों को बाहर निकाला जा रहा है।

कोलकाला एयरपोर्ट भी रहेगा बंद
तूफान को देखते हुए बड़े पैमाने पर हुए ऑपरेशन में गुरुवार शाम 7 बजे तक लगभग 8 लाख लोगों को निचले इलाकों से निकाला गया। तटीय जिलों में रेल, सड़क और हवाई यातायात पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। गुरुवार मध्यरात्रि से बीजू पटनायक इंटरनैशनल एयरपोर्ट पर सभी उड़ानें 24 घंटे के लिए रोक दी गई हैं। कोलकाता एयरपोर्ट भी शुक्रवार रात से शनिवार शाम 6 बजे तक बंद रहेगा।

From around the web