पत्नी को झूठे केस में फंसाने के लिए पति ने घर में रखी दवाइयां गटकी

 
पत्नी को झूठे केस में फंसाने के लिए पति ने घर में रखी दवाइयां गटकी रुडकी। पत्नी को झूठे केस में फंसाने को लेकर पति ने घर में रखी दवाइयां गटक ली। दवाइयां गटकने के बाद पति ने अपने माता-पति को फोन कर घर बुला लिया। महिला का आरोप है कि सास-ससुर ने घर आकर मारपीट कर बाहर निकाल दिया। शिकायत पर पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। गनीमत रही कि दवाई गटकने से पति की हालत नहीं बिगड़ी। गंगनहर कोतवाली को मंगलौर निवासी महिला ने बताया कि उसकी शादी दस साल पूर्व श्यामनगर निवासी युवक से हुई थी। परिवार ने शादी में हैसियत के मुताबिक दान दहेज दिया था। शादी के बाद तीन बच्चों को जन्म दिया। आरोप है कि मामूली बातों को लेकर सास-ससुर गाली-गलौज करने लगे। कई बार मायके पक्ष ने सास ससुर को समझाने का प्रयास किया। लेकिन कुछ दिनों बाद फिर से उत्पीडऩ शुरू कर दिया गया। महिला ने बताया कि बढ़ते उत्पीडऩ को लेकर सास-ससुर का घर छोड़कर पति संग कृष्णानगर में रहने लगी। पीडि़त ने बताया कि सुबह पति से मामूली विवाद हो गया। पति ने उसे झूठे
केस में फंसाने की बात कर कमरे में रखी दवाइयां गटक ली। जिसके बाद पति ने सास-ससुर को भी घर पर बुला लिया। आरोप है कि तीनों ने मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया। जिसके बाद मायके पक्ष के लोगों को फोन पर आपबीती सुनाई। सूचना मिलने पर मायका पक्ष घटनास्थल पर पहुंचा और गंगनहर कोतवाली लेकर पहुंचा। पीडि़त महिला ने बताया कि दबाव बनाने के लिए पति ने घर में रखी दवाइयां गटकी है। हालाकि उन दवाइयों को गटकने से पति की तबीयत नहीं बिगड़ी। एसएसआई रणजीत सिंह तोमर ने बताया कि तहरीर मिली है। मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

From around the web