‘हलाला’ के नाम पर इस तरह होता है बेगुनाह औरत के जिस्म से खिलवाड़!

 
‘हलाला’ के नाम पर इस तरह होता है बेगुनाह औरत के जिस्म से खिलवाड़!
मुहम्मद फैज़ान | faizan@upuklive.com
तीन तलाक मुद्दे पर मुल्क में इन दिनों चर्चाएं हैं। इसी बीच एक शब्द और सामने आ रहा है ‘हलाला’। दरअसल यह एक ऐसी कुप्रथा है जो मुस्लिम समाज में लम्बे समय से देखने को मिलती है। हालांकि उलेमाओं के मतानुसार पहले से तय हलाला हराम है। अब सवाल है कि  ‘हलाला’ के नाम पर होने वाली बेशर्मी पर क्या अब लगाम लगेगी?

उलेमाओं से हुई हमारी बातचीत के अनुसार यदि शौहर अपनी बीवी को तीन तलाक दे देता है तो फिर उस औरत से फिर से निकाह मुमकिन नहीं है। ये अलग बात है कि उस औरत का निकाह कहीं और हो जाए, फिर अगर वह शादी नहीं चल पाए और वहां तलाक की सूरत पैदा हो तो फिर दोबारा से पहले वाले शौहर से निकाह किया जा सकता है।


लेकिन अक्सर देखने को मिलता है कि गुस्से में आकर शौहर तीन तलाक दे देता और फिर उसे इस पर अफसोस होता है। ऐसे हालात में कथित जिम्मेदार लोग मिलकर तय करते हैं कि इस औरत का निकाह एक रात के लिए किसी और मर्द से कराया जाए और फिर सुबह को वह तलाक दे। यकीनन यह बेशर्मी और बेहयाई है। 

From around the web