जम्मू-कश्मीर में आयकर विभाग ने फिर से की कार्रवाई, 170 करोड़ ऋण का मामला

 
जम्मू-कश्मीर में आयकर विभाग ने फिर से की कार्रवाई, 170 करोड़ ऋण का मामला
आयकर विभाग ने आज श्रीनगर के एक प्रमुख व्यापार समूह के विरूद्ध जांच और जब्ती की कार्रवाई की। इस कार्रवाई में श्रीनगर के 8 परिसर और बेंगलुरू तथा दिल्ली के 1-1 परिसर शामिल हैं। यह व्यापार समूह परिवहन, रेशम धागे के निर्माण, आतिथ्य, कश्मीर कला और शिल्प कला आदि के खुदरा व्यापार से जुड़ा है।
इस व्यापार समूह का कोई भी सदस्य अपनी आयकर विवरणी नियमित रूप से दाखिल नहीं करता है। एकबारगी निपटारे के तौर पर समूह ने जे एंड के बैंक से कुल 77 करोड़ रुपए के पुनर्निर्मित ऋण सहित 170 करोड़ रुपए के ऋण प्राप्त किए। समूह ने अब तक इनमें से जे एंड के बैंक को केवल 50.34 करोड़ रुपए का भुगतान किया है और शेष 27.66 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया है। जांच के दौरान इस बात का साक्ष्य मिला है कि जे एंड के बैंक से ऋण का एकबारगी निपटारा जें एंड के बैंक के एक  ऐसे वरिष्ठ अधिकारी की पहल पर किया गया था, जिसे बारी से पहले कई पदोन्नतियां मिली थीं। इसके अलावा इस बात का भी साक्ष्य मिला कि उपर्युक्त ऋण से संबंधित 50.34 करोड़ रुपए के ऋण वापसी एक ऐसे सागिर्द को उतनी ही धनराशि का ऋण देकर महज एक खानापूर्ति की है, जिसने इस पूरे लेन-देन में अपनी भूमिका को लेकर अपनी गलती कबूल की है।

From around the web