जिन्ना की बेटी ने नहीं छोड़ा था हिंदुस्तान, लव लाइफ थी 'असली' वजह...

 
जिन्ना की बेटी ने नहीं छोड़ा था हिंदुस्तान, लव लाइफ थी 'असली' वजह...
महात्मा गांधी के बाद आजादी के समय दो नाम सबसे ज्यादा चर्चा में थे- एक पंडित नेहरू और दूसरा मोहम्मद अली जिन्ना। जिन्ना की इकलौती बेटी 'दीना' के बारे में बहुत कम लोग ही जानते होंगे।

'दीना' मोहम्मद अली जिन्ना और रति बाई पेटिट की इकलौती बेटी थीं। आजादी के बाद दीना अपने पिता के साथ पाकिस्तान नहीं गईं बल्कि भारत के मुंबई शहर में ही बस गईं। देश का जब बंटवारा हुआ तो दीना इस असमंजस में पड़ गईं कि वो किसे अपना देश मानें।

लिहाजा, दीना ने अपने फ्लैट की बालकनी पर हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के झंडे लगाए। लेकिन, आपको जानकर हैरानी होगी कि दीना के पाकिस्तान नहीं जाने के पीछे असली वजह उनकी लव लाइफ थी।

दीना के पिता मोहम्मद अली जिन्ना ने पारसी रति बाई पेटिट से प्रेम विवाह किया था। दीना के जन्म के कुछ साल बाद ही रति बाई का देहांत हो गया। दीना की देखरेख उनकी बुआ ने की थी। दीना जब बड़ी हुईं तो उन्होंने जिन्ना से नेविले वाडिया नाम के एक पारसी से शादी करने की इच्छा जाहिर की। जिन्ना इसके खिलाफ हो गए। लेकिन, दीना नेविले से शादी करने की जिद पर अड़ी रहीं।

जिन्ना ने काफी विरोध किया तो दीना ने बगावत करके शादी कर ली और अपने पिता का घर छोड़ दिया। इस शादी के बाद जिन्ना ने दीना से अपने सारे संबंध तोड़ लिए। इस शादी के बाद बाप-बेटी के रिश्ते में दरार आ गई। दोनों एक-दूसरे को पत्र लिखते थे, लेकिन यह बस एक औपचारिकता तक ही सीमित था।

दोनों केवल किसी कार्यक्रम में ही मिलते थे जहां पर जिन्ना अपनी बेटी को 'मिसेज वाडिया' कहकर बुलाया करते थे।

From around the web