'बदहाल बिजली व बेकार सड़क से लोकसभा चुनाव बहिष्कार' तक की 'दर्दनाक दास्तां'

 
'बदहाल बिजली व बेकार सड़क से लोकसभा चुनाव बहिष्कार' तक की 'दर्दनाक दास्तां'राम मिश्रा, अमेठी। चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही नेता चुनावी जुमले जनता को लुभाने के लिए मंचों से ऐलान कर रहे हैं तो वहीं अमेठी जिले के धरौली गाँव के लोगो ने भी नेता के चुनावी जुमले और वादों को दरकिनार करते हुए 2019 के लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया है ग्रामीण इसके पीछे की वजह वहां की बेकार सड़के बता रहे हैं ।

दरअसल आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर देश का मूड चुनावी हो चुकी है इस बीच अमेठी के धरौली गांव के लोगों ने चुनाव के बहिष्कार करने का एलान किया है धरौली गांव के लोगों का कहना है कि वो तब तक किसी भी चुनाव में वोट नहीं करेंगे जब तक उनके गांव की जर्जर सड़के नहीं बन जाती गांव वालों ने कहा कि बरसात के मौसम में स्थिति और भी खराब हो जाती है इसीलिये हम लोगों ने लोकसभा चुनाव के बहिष्कार' का बैनर गांव की सड़क के बाहर लगा दिया है ।

वही अमेठी जिले के मुसाफिरखाना कस्बे के लोगों ने इस बार आगामी लोक सभा चुनाव में मतदान बहिष्कार करने की घोषणा की है कस्बेवासियो ने बताया पिछले कई महीने से उन्हें ग्रामीण फीडर से विद्युत आपूर्ति की जा रही है जबकि बिल कस्बे के दर से उसूला जा रहा है इसलिए उन्होंने 'बिजली का समाधान नहीं तो लोक सभा चुनाव में मतदान' नही जैसे स्लोगन के पोस्टर अपने घरों के मुख्य द्वारा पर चस्पा कर दिये हैं।

मुसाफिरखाना  वार्ड नं 4 रेलवे स्टेशन के कस्बेवासियों ने बताया कि उन्हें इस बात का मलाल है कि हर चुनाव में बिजली की समस्याओं पर लंबी चौड़ी बातें होती है,परंतु समस्याओं का निराकरण कुछ नहीं होता कस्बेवासियों का कहना है कि उन्हें पिछले कई महीने से ग्रामीण फीडर और ग्रामीण रोस्टर के अनुसार ही विद्युत आपूर्ति कराई जा रही है जबकि उनसे बिजली का बिल कस्बे के दर से उसूला जा रहा है ।

कस्बेवासियो ने बताया कि उन्होंने कई बार विद्युत विभाग सहित जनप्रतिनिधियों से भी इस समस्या को अवगत कराया लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नही दिया जिसके कारण उनका धैर्य इस बार जवाब दे दिया और  इसीलिये उन्होंने घर के मुख्य प्रवेश द्वार पर  'बिजली का समाधान नहीं तो लोक सभा चुनाव में मतदान नहीं' स्लोगन के पोस्टर चस्पा कर दिये हैं।

From around the web