दुष्कर्म पीड़िता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

 
दुष्कर्म पीड़िता ने फांसी लगाकर की आत्महत्यारुडकी। दुष्कर्म पीडि़त किशोरी ने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पीडि़ता ने चार दिन पहले ही एक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। आरोपी की अभी गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी। बताया जा रहा है कि पीडि़ता मानसिक तौर पर परेशान थी। मौके से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ।
मंगलौर कोतवाली क्षेत्र की सोलह वर्षीय किशोरी ने एक युवक पर शादी का झांसा देकर एक साल तक दुराचार किए जाने का आरोप लगाया था। इस मामले में दस अप्रैल को पीडि़ता की तहरीर पर आरोपी युवक के खिलाफ दुराचार और पोक्सो ऐक्ट में मामला दर्ज किया था। किशोरी का पुलिस ने मेडिकल कराया था, जिसमें दुराचार की पुष्टि हुई थी। बताया जा रहा है कि घटना के बाद पीडि़ता मानसिक रूप से परेशान चल रही थी। परिवार के लोग उसे लगातार समझा रहे थे। रविवार दोपहर को परिवार के लोग बाहर थे। इस बीच किशोरी ने घर के कमरे में लगे पंखे में अपने दुपट्टे का फंदा बनाकर फांसी लगा ली। कुछ देर के बाद जब परिजन घर पहुंचे तो उन्होंने किशोरी का शव पंखे से लटका पाया। सूचना पर कोतवाल प्रदीप चौहान, शहर चौकी प्रभारी आमिर खान, विवेचक उप निरीक्षक रेखा पाल मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव को नीचे उतारा। बाद में पुलिस को एक चार लाइन का पत्र वहां से मिला। जिसे पुलिस सुसाइड नोट मान रही है। पत्र में लिखी बातों के बारे में पुलिस फिलहाल कुछ भी कहने से इनकार कर रही है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। कोतवाल प्रदीप चौहान का कहना है कि जिस युवक के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था उसकी तलाश की जा रही है। उसके घर पर पुलिस ने दबिश दी लेकिन वह फरार है। बताया कि आरोपी का नाम अमन है।

From around the web