कश्मीर से धारा 370 हटाया जाना बड़ा काम: मेनका गांधी

 
कश्मीर से धारा 370 हटाया जाना बड़ा काम: मेनका गांधी
सुलतानपुर। कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद मेनका संजय गांधी ने बड़ा बयान दिया है.पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद मेनका गांधी ने आज अपने दौरे के दूसरे दिन सुल्तानपुर के भदैयां ब्लाक के महेशुआ गांव में जनता को संबोधित करते हुए कहा कि 70 वर्षों में कश्मीर के मसले पर किसी भी प्रधानमंत्री को साहस नहीं हुआ कि वह वहां की धारा 370 को हटाने का निर्णय ले लेत । 

 गांधी ने गांव के लोगों को समझाते हुए बताया कि एक ही देश में दो कानून और दो संविधान लागू होना कितना सही है. गांधी ने गांव के लोग से संवाद करते हुए बताया कि हिंदुस्तान में लागू होने वाला कानून कश्मीर पर नहीं लागू होता था वहां की अपनी पुलिस होती थी, हिंदुस्तान में जहां विवाह की उम्र 18 से 21 वर्ष रखी गई है वहीं कश्मीर में नौ वर्ष की बच्चियों का विवाह करके उनके जीवन को बर्बाद िया जा रहा था।

उन्होने कहा कश्मीर में पिछले 70 वर्षों में चले संघर्ष में 46000 से अधिक लोग मारे गए। कश्मीरी पंडितों को वहां से भगा दिया गया। उनकी जमीनों पर कब्जा कर लिया गया। कश्मीर पर तीन परिवारों ने अपना राज कर रखा था, कभी वह सत्ता पर काबिज होते थे तो कभी दूसरा होता था।

सांसद मेनका गांधी ने बताया की पं नेहरू की सरकार ने आजादी के बाद धारा 370 को अस्थाई रूप से लागू किया था तो यह कहा गया कि कुछ दिनों में इसे हटा लेगे लेकिन 70 साल बीत गये उसे हटाया नहीं गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मानना है कि यदि धारा 370 से वहां पर शांति कायम नहीं हो सकी, कश्मीर का विकास नही हो सका, लोगों को रोजगार नही मिला, देश के 160 कानून वहा लागू नही होते थे तो उसकी क्या जरूरत और प्रधानमंत्री जी ने बड़े सलीके से विना शोर मचाए विना लड़ाई कराए धारा 370 को वहां से हटाकर कश्मीर की जनता के साथ बड़ा न्याय किया है.आजादी के 70 साल बाद 'एक देश एक संविधान और एक कानून बना हैÓ इसके लिए हम सबको पीएम मोदी को मुबारकबाद देनी चाहिए। इतिहास यही याद करेगा कि एक साहसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आया जिसने देश को एक किया।

From around the web