छात्रवृत्ति घोटाले के मामले में SIT ने किए 60 बच्चों के बयान दर्ज

 
छात्रवृत्ति घोटाले के मामले में SIT ने किए 60 बच्चों के बयान दर्ज
जसपुर। एसआईटी की टीम ने जसपुर के कई मोहल्लों एवं दो गांवों में जाकर छात्र छात्राओं से पूछताछ कर ब्यान दर्ज किए। मामले में पूर्व में चार बिचोलियों एवं शैक्षणिक संस्थान के विरूद्व पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया हुआ है।


रविवार को एसआईटी प्रभारी भीम भास्कर आर्य अपने सहयोगी श्यामलाल विश्वकर्मा के साथ जसपुर पहुंचे।टीम ने मोहल्ला नत्थासिंह एवं अन्य मोहल्लों के बच्चों से पूछताछ की। इसके बाद महुवाडाबरा एवं मंडुआखेड़ा के छात्र छात्राओं के ब्यान दर्ज किए गए। बीबी आर्य ने बताया कि पूछताछ में छात्र छात्राओं ने बताया है कि बिचैलियों ने उनके दस्तावेज लेकर बीएड में दाखिला दिखाया है। जबकि उनका बीएड भी नहीं हुआ।

बताया कि बिचोलियों ने वर्ष २०११ से २०१५ के बीच छात्रवृत्ति के लिए आवेदन कराये, लेकिन कुछ छात्रों को छात्रवृत्ति मिली ही नही, जिसे मिली भी तो उसे पूरी नहीं मिली। बिचैलियों ने पहले ही अपने नाम से रकम के चेक  भरवाकर ले लिये थे। बताया कि आरोपियों ने राज्य सरकार को लाखों रूपयों का चूना लगाया है।

एसआईटी प्रभारी बीबी आर्य ने बताया कि प्रकरण में महुवाडाबरा निवासी महिलाल,दिग्विजय सिंह,भगवंतपुर के कमलजीत सिंह,बरखेड़ा काशीपुर के उदयराज पुत्र शांतिप्रसाद एवं मंडुवाखेड़ा निवासी पाकेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इन लोगों ने संदेश एवं ब्राईटलैंड कालेज (हरियाणा) के साथ मिलकर सरकार से प्राप्त छात्रवृत्ति को हड़पने का काम किया है।

आर्य ने बताया कि बिचैलियों ने कालेजों में ब्लाक के करीब १४७२ बच्चों के दाखिलें दिखाकर उनके नाम पर सरकार से लाखों रूपये की छात्रवृत्ति हड़पी है। आर्य ने छात्र छात्राओं से अपील की है कि वर्ष २०११ से लेकर २०१५ तक बाहरी स्कूलों में दाखिला दिखाकर छात्रवृत्ति हड़पने के मामले में छात्र छात्रायें इस बाबत उन्हे जानकारी दे सकते है।  

From around the web