देवी को खुश करने के लिए होता है 'पत्थरबाजी फेस्टिवल', 120 लोग हुए घायल!

 
देवी को खुश करने के लिए होता है 'पत्थरबाजी फेस्टिवल', 120 लोग हुए घायल!
उत्तराखंड के एक मंदिर में पत्थरबाजी विरोध जताने नहीं बल्कि त्योहार मनाने के लिए की जाती है। हर साल रक्षा बंधन के त्योहार पर इस मंदिर पर बड़ी संख्या में इकट्ठा होते हैं और पत्थरबाजी करते हैं। इस दौरान इस साल 120 लोग घायल हुए हैं।

एनबीटी की रिपोर्ट के अनुसार चंपावत जिले के देईदुरा में स्थित है बरही देवी का मंदिर। देवी को खुश करने के लिए हर साल यहां 'बगवाल' पत्थरबाजी फेस्टिवल मनाया जाता है।

रक्षा बंधन के दिन श्रद्धालु देवी के मंदिर में इकट्ठा होते हैं और एक-दूसरे पर पत्थर मारते हैं। बड़ी संख्या में लोग इस फेस्टिवल को देखने भी आते हैं।

इसे बग्वाल मेला भी कहते हैं। यहां पत्थर मारने का रिवाज है। लेकिन हाई कोर्ट पत्थर मारने पर बैन लगा चुका है। मेले में इस बार पत्थरों की जगह लोगों ने फलों की बौछार की। फलों में नाशपाती और सेब का प्रयोग किया गया। करीब 10 मिनट तक चले इस 'युद्ध' में 120 के करीब लोग चोटिल हो गए। जिन्हें प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई। 

From around the web