तबरेज मॉब लिंचिंग: पुलिस ने सभी 11 आरोपियों के खिलाफ हटाई हत्या की धारा

 
तबरेज मॉब लिंचिंग: पुलिस ने सभी 11 आरोपियों के खिलाफ हटाई हत्या की धारा
रांची। करीब 4 माह पहले चोरी के कथित आरोप में भीड़ द्वारा पीटे गए तबरेज अंसारी की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है। पुलिस ने आईपीसी की धारा 302 के तहत 11 आरोपियों पर दर्ज मामले को खारिज कर दिया है। पुलिस का तर्क है कि तबरेज की मौत की वजह तनाव व कार्डियक अरेस्ट है। हत्या की धारा 302 के हटने से अब अभियुक्तों को मौत की सजा नहीं मिलेगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। उन्होंने तबरेज की खबर को री-ट्वीट करते हुए कहा, च्जैसा मैंने पहले भी कहा है कि जब अमित शाह सरकार में गृहमंत्री हों तो आप क्या उम्मीद कर सकते हैं?
इस साल जून में बाइक चोरी में हाथ होने की आशंका के चलते लोगों के एक समूह ने अंसारी को पीटा। घटनास्थल से उसके दो साथी भागने में कामयाब हो गए थे। मारपीट की घटना के एक हफ्ते बाद अंसारी की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी। तबरेज अंसारी मामले में पुलिस ने मेडिकल रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि अंसारी की मौत कार्डिएक अरेस्ट से हुई थी और यह पूर्व नियोजित हत्या नहीं थी, इसलिए आरोपियों के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का आरोप दर्ज हुआ है। इस मामले को लेकर सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस ने कहा कि हमने दो कारणों से आईपीसी की धारा 304 के तहत आरोप पत्र दायर किया। पहली वजह यह है कि वह (तबरेज अंसारी) मौके पर नहीं मरा। ग्रामीणों का अंसारी को मारने का कोई इरादा नहीं था।

From around the web