हमले की सुपारी देने वाला तीर्थ पुरोहित और दोनों बदमाश गिरफ्तार

 
हमले की सुपारी देने वाला तीर्थ पुरोहित और दोनों बदमाश गिरफ्तार
हरिद्वार।  नगर कोतवाली के औद्योगिक क्षेत्र में आंख में मिर्ची डालकर तीर्थ पुरोहित से मारपीट और लूट का प्रयास करने वाले दो बदमाशों और हमले की सुपारी देने वाले एक तीर्थ पुरोहित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

इसी तीर्थ पुरोहित ने हमले की साजिश रची थी और दोनों बदमाशों को 20 हजार रुपये की सुपारी दी थी। घटना बीते 11 सितंबर बुधवार शाम की है, जब ज्वालापुर तपोवन नगर सुभाषनगर निवासी तीर्थ पुरोहित मदन पाल शर्मा उर्फ सोनू शर्मा अपने ससुर राजेंद्र गोस्वामी निवासी लक्कड़हारान ज्वालापुर के साथ बड़ा बाजार शिव दयाल गिरी की हवेली स्थित अपनी गद्दी पर जा रहे थे।

टिबड़ी क्षेत्र से औद्योगिक क्षेत्र की ओर जाते वक्त तीर्थ पुरोहित ने हेलमेट पहनने के लिए अपनी बाइक रोक ली थी। जहां पीछे से आए दो बाइक सवार बदमाशों ने तीर्थ पुरोहित की आंखों में मिर्ची डाली और एक ने लोहे की रॉड से हमला कर दिया। इससे तीर्थ पुरोहित घायल हो गए। दोनों बदमाश लूट का प्रयास करने लगे। तभी पीछे बैठे ससुर राजेंद्र गोस्वामी ने शोर मचा दिया। इसके बाद बाइक सवार बदमाश वहां से भाग निकले। हमला करने वाले दोनों बदमाशों को तीर्थ पुरोहित मदन पाल शर्मा ने एक अन्य तीर्थ पुरोहित तीर्थ पुरोहित अविचल कार्तिकेय गोस्वामी के साथ देखा था। पुलिस ने अविचल के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू की और पूछताछ शुरू कर दी। उधर दोनों बदमाशों की तलाश में सीसीटीवी फुटेज भी खंगालने शुरू कर दिए।

तभी एक मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने ब्रह्मपुरी निवासी दो युवक छोटा चौहान पुत्र सुरेश चौहान और सूरज उर्फ बिल्ला पुत्र ओमप्रकाश को हिरासत में लिया। दोनों युवक को मदन पाल शर्मा ने पहचान लिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने बताया कि तीर्थ पुरोहित अविचल कार्तिकेय गोस्वामी के कहने पर उन्होंने पुरोहित मदन पाल शर्मा उर्फ सोनू शर्मा पर हमला किया था। इसके लिए उनको 20 हजार रुपये भी मिले थे। पुलिस ने तीर्थ पुरोहित अविचल और दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर दिया है।

कोतवाली प्रभारी प्रवीण कोश्यारी ने बताया कि तीनों को जेल भेज दिया है। बाइक को खड़ा करने पर हुआ था विवाद दोनों तीर्थ पुरोहित मदन पाल शर्मा उर्फ सोनू और आरोपी अविचल शर्मा के बीच एक सप्ताह पहले बड़ा बाजार स्थित शिव दयाल गिरी की हवेली पर बाइक को खड़े करने को लेकर विवाद हुआ था। इसी विवाद की खुन्नस निकालने के लिए तीर्थ पुरोहित के साथ मारपीट की सुपारी दी गई थी।

From around the web