देश को मजबूत नेतृत्व की जरूरत, जो कि नरेंद्र मोदी ही दे सकते: शरत चंद

 
देश को मजबूत नेतृत्व की जरूरत, जो कि नरेंद्र मोदी ही दे सकते: शरत चंददेहरादून। थल सेना के पूर्व उप प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) शरत चंद भाजपा ज्वाइन करने के बाद रविवार को उत्तराखंड पहुंचे। इस दौरान उन्होंने भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वर्तमान मे देश के सामने आतंकवाद जैसी चुनौतियों और मोदी सरकार की नीतियों को देखते हुए मैंने भाजपा की सदस्यता ली है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने ही पूर्व सैनिकों और सेवारत सैनिकों की वर्षों से चली आ रही वन रैंक वन पेंशन की मांग को पूरा किया है, जिस पर 10,000 करोड़ रुपए का खर्चा सरकार कर रही है। इसमें कुछ कमियां होंगी तो सरकार उसे भी दूर करेगी। मूल रूप से केरल के रहने वाले शरत चंद ने कहा कि उन्होंने 40 साल गढ़वाल राइफल में सेवा दी है, इसलिए उनका उत्तराखंड से विशेष लगाव है।

गढ़वाल राइफल के लिए उन्होंने अपने कार्यकाल में भर्ती के लिए लंबाई में छूट देने का भी प्रावधान करवाया। सेना के प्रति मोदी सरकार की नीतियों को लेकर उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की नीतियां स्पष्ट हैं। इसलिए मैं भाजपा को समर्थन दूंगा। वर्तमान में देश को एक मजबूत नेतृत्व की जरूरत है, जो प्रधानमंत्री मोदी में ही दिखाई देती है। उन्होंने शनिवार को ही भाजपा की वरिष्ठ नेता एवं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की मौजूदगी में पार्टी ज्वाइन की थी। शरत चंद जून 1979 में गढ़वाल राइफल्स में शामिल हुए थे और वह पिछले साल एक जून को उप सेना प्रमुख के पद से सेवानिवृत्त हुए थे।

From around the web