जिस्मफरोशी के दलदल से निकली एक पीड़िता की दर्दनाक दास्तान...

 
जिस्मफरोशी के दलदल से निकली एक पीड़िता की दर्दनाक दास्तान...
मुंबई । 12 साल की उम्र में उसे ट्रेन से कुछ लोगों ने अगवा कर लिया था. उसे एक सप्ताह तक एक कमरे में रखा गया, जहां उसके साथ कुछ और लड़कियां भी मौजूद थीं. वहां उसे डराया-धमकाया गया. मेल टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता को कुछ लोग उसे काम दिलाने के बहाने दिल्ली लेकर आए. उससे वादा किया कि वह हर महीने उसके घर मां-बाप के पास पैसे भिजवा देगा.

कुछ दिन तक काम करने के बाद उसे वापस घर भेज दिया जाएगा. डर और लालच की वजह से लड़की उनके चंगुल में बुरी तरह फंस गई. उसे दिल्ली में एक परिवार में भेज दिया गया.

साउथ दिल्ली में स्थित इस घर में उसे 2 छोटे बच्चों को संभालने का काम दिया गया. करीब 18 महीने बाद उसने दूसरी नौकरी मांगी तो उसे एक अन्य घर में भेज दिया गया.

वहां अक्सर उसके साथ मारपीट की जाती थी. इस बीच उसे एक भी बार घर नहीं जाने दिया गया. पीड़िता जब 16 साल की हो गई तो प्लेसमेंट एजेंसी ने उसे देह व्यापार के धंधे में डाल दिया.

उसे दिल्ली के जीबी रोड रेड लाइट एरिया में भेज दिया गया. वहां पीड़िता को एक महिला के पास रखा गया, जिसे सब मैडम जी कहकर पुकारते थे. पीड़िता ने वहां से कई बार भागने की भी कोशिश की लेकिन नाकाम रही.



 2 साल बाद उसे मुंबई के रेड लाइट एरिया में भेज दिया गया. उसकी जिंदगी नरक बन गई, लेकिन पुलिस ने आखिरकार उसे बचा लिया.

From around the web