छठी मुहर्रम पर 42 घंटे चलने वाला दुलदुल का जुलूस उठा, जगह जगह मातम

 
छठी मुहर्रम पर 42 घंटे चलने वाला दुलदुल का जुलूस उठा, जगह जगह मातम
राकेश पाण्डेय
वाराणसी। अंजुमन इमामिया के संयोजन में छठवीं मोहर्रम पर शहर में करीब 42 घंटे तक भ्रमण करने वाला दुलदुल का जुलूस शुक्रवार को कच्चीसराय स्थित वक्फ इमामबाड़ा से अकीदत व एहतराम के साथ उठाया गया। अंजुमनों ने नौहा-मातम किया। दुलदुल की जियारत के लिए महिलाएं व पुरुषों की भीड़ लगी रही। यह जुलूस शहर के आठ थाना क्षेत्रों से होकर गुजरेगा।

इमामबाड़ा के मुतवल्ली एडवोकेट सैयद इकबाल की निगरानी में जुलूस शान-ओ-शौकत के साथ उठाया गया। अंजुमन जौव्वादिया नौहा व मातम कर रही थी। शहनाई पर मातमी धुन बज रही थी।

 जुलूस नई सड़क, औरंगाबाद, काली महाल, माताकुण्ड, पितरकुण्डा, फातमान, चेतगंज, पियरी, जालपादेवी, कबीरचौरा, औसानगंज, जैतपुरा, दोषीपुरा, दारानगर, बहेलिया टोला, पत्थर गलिया होता हुए तीसरे दिन सुबह 10 बजे वापस इमामबाड़ा आकर समाप्त होगा। जुलूस में सैयद हैदर हुसैन मौलाई, जफर हसन, सगीर हसन, शकील अहमद जादूगर, सकलैन हैदर, आफाक हैदर, शाकिर हुसैन आदि शामिल हैं।

From around the web