ये शख्स प्लास्टिक से पेट्रोल बनाकर रोजाना बेचता है 40 से 50 लीटर

 
ये शख्स प्लास्टिक से पेट्रोल बनाकर रोजाना बेचता है 40 से 50 लीटर
नई दिल्ली। हैदराबाद के 45 वर्षीय मेकेनिकल इंजीनियर ने पेट्रोल बनाने का एक नायाब आइडिया खोज निकाला है. इन इंजीनियर प्रोफेसर का नाम सतीश कुमार है, जिन्होंने प्लास्टिक से पेट्रोल बना डाला है। सतीश कुमार का दावा है कि वे तीन प्रक्रियाओं के जरिए प्लास्टिक से पेट्रोल बना सकते हैं. न्यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार, सतीश कुमार ने बताया कि इन प्रक्रिया के जरिए प्लास्टिक को डीजल, विमानन ईंधन और पेट्रोल में बदलने के लिए रिसायकल किया जा सकता है।

करीब 500 किलोग्राम नॉन रिसायकल प्लास्टिक से 400 लीटर पेट्रोल प्रोड्यूस किया जा सकता है. सतीश कुमार का कहना है कि इस सिंपल सी प्रक्रिया में न तो पानी की जरुरत पड़ती है और न ही इससे वेस्ट वॉटर रिलीज होता है. इतना ही नहीं इससे हवा में प्रदूषण भी नहीं फैलता है।

साल 2016 से प्रोफेसर सतीश कुमार खराब प्लास्टिक को रिसायकल करके 50 टन पेट्रोल बना चुके हैं. आज के समय में सतीश कुमार की कंपनी रोजाना 200 किलोग्राम प्लास्टिक से 200 लीटर पेट्रोल बनाते हैं, जिसे उनकी कंपनी लोकल इंडस्ट्रीज़ में यह पेट्रोल 40 से 50 रुपए लीटर में बेचती है।


रिपोर्ट के अनुसार, अपने उद्देश्य को लेकर बात करते हुए सतीश कुमार ने कहा, इस प्लांट को शुरू करने के पीछे हमारा मुख्य उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा करना है।

हम इसके लिए किसी भी प्रकार के कमर्शियल बेनेफिट की उम्मीद नहीं कर रहे. हमारी बस एक छोटी सी कोशिश है कि भविष्य क्लीन रहे. हम अपनी टेक्नॉलोजी को किसी भी उद्यमी के साथ शेयर करने को तैयार हैं अगर कोई रुचि दिखाता है। 

From around the web