इस बार मोदी पीएम हुए तो कांग्रेस पार्टी का बचना मुश्‍किल हो जाएगा: पृथ्वीराज चह्वाण

 
इस बार मोदी पीएम हुए तो कांग्रेस पार्टी का बचना मुश्‍किल हो जाएगा: पृथ्वीराज चह्वाण
महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी ने मिलकर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। वहीं, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे इस गठबंधन के लिए बीजेपी-शिवसेना गठजोड़ के खिलाफ प्रचार करने मैदान में उतर चुके हैं। पूर्व में कांग्रेस और एनसीपी के बीच भरोसे की कमी रही है। ऐसे में दोनों पार्टियां मिलकर कैसे एनडीए का मुकाबला करेंगी?

इसके जवाब में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण कहते हैं कि पूर्व की बातें अब बंद हो चुका अध्याय है। चव्हाण के मुताबिक, यह चुनाव एक कटु वैचारिक लड़ाई है और दोनों पार्टियां मिलकर लड़ रही हैं ताकि संविधान और लोकतंत्र को बचाया जा सके।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पूर्व सीएम ने कहा, दोनों पार्टियां जमीन पर साथ मिलकर काम कर रही हैं। यह दोनों ही पार्टियों के लिए अस्तित्व का सवाल है। अगर हम हारे और मोदी दोबारा पीएम बनते हैं तो बतौर कांग्रेस पार्टी हमारे लिए जारी रखना और सत्ता तक पहुंचना मुश्किल हो जाएगा।

क्या कांग्रेस और एनसीपी मोदी सरकार के खिलाफ समाज के कुछ तबके के गुस्से को अपने पक्ष में इस्तेमाल कर पाएगी? इस बारे में पूछे जाने पर चव्हाण ने बताया कि ग्रामीण इलाकों और खास तौर पर कृषि क्षेत्र में मोदी सरकार के खिलाफ साफ गुस्सा नजर आता है।

चव्हाण के मुताबिक, एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हुए चुनाव के दौरान भी इस गुस्से को देखा गया और यह आज भी कायम है।

उन्होंने कहा, ‘मुझे शहरों का नहीं पता, लेकिन ग्रामीण इलाकों में काफी असंतोष है। 2014 में कांग्रेस और एनसीपी ने महाराष्ट्र में सिर्फ 6 सीटें जीती थीं, लेकिन इस बार हम काफी बेहतर प्रदर्शन करेंगे। महाराष्ट्र में बीजेपी को बड़ा झटका लगेगा।’

From around the web