नौकरी का झांसा देकर की गयी महिला की ओमान में तस्करी, 5 माह बाद हुई रिहा

 
नौकरी का झांसा देकर की गयी महिला की ओमान में तस्करी, 5 माह बाद हुई रिहा
नौकरी का झांसा देकर हैदराबाद की रहने वाली एक महिला की ओमान में तस्करी की गई थी। अब महिला को पांच महीने बाद वहां से बचा लिया गया है।

कुलसुम बानो ने मदद के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को धन्यवाद कहा है। कुलसुम का कहना है कि अबरार नाम के एक एजेंट ने उन्हें मस्कट में ब्यूटी पार्लर में नौकरी दिलाने का ऑफर दिया था। एजेंट ने कहा था कि हर महीने तीस हजार रुपये सैलरी मिलेगी।

लेकिन वहां पहुंचने के बाद कुलसुम से लोगों के घरों का काम कराया जाने लगा। उनका कहना है, "मैंने वहां एक महीने तक काम किया और फिर काम करने से मना कर दिया।" उन्होंने एजेंसी पर आरोप लगाते हुए कहा कि दस दिनों तक कमरे में बंद करके उनके साथ मारपीट की गई और खाने को भी कुछ नहीं दिया गया।

 मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वह कहती हैं, इसके बाद मैंने वहां स्थित भारतीय दूतावास से सहायता मांगी। अधिकारियों ने मुझे चार महीने तक दूतावास में रहने दिया। इसके बाद मैंने अपनी बेटी से संपर्क किया और अपनी सारी परेशानी बताई।


कुलसुम बताती हैं कि इसके बाद उनकी बेटी ने केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज से इस मामले की शिकायत की। भारतीय दूतावास ने उनपर लगाया गया पांच हजार रियाल का जुर्माना अदा किया और उन्हें वापस भारत भेज दिया।

सुषमा स्वराज और भारतीय दूतावास की सहायता से कुलसुम आठ मई को भारत आईं। जिसके बाद उन्होंने सुषमा स्वराज और भारतीय दूतावास को शुक्रिया कहा।

From around the web