डिग्री कॉलेज में छात्राओं के बुर्का पहनकर आने पर पाबंदी पर उलेमा ने जताई आपत्ति

 
डिग्री कॉलेज में छात्राओं के बुर्का पहनकर आने पर पाबंदी पर उलेमा ने जताई आपत्ति
फिरोजाबाद के एसआरके डिग्री कॉलेज में बुर्का पहनकर आने वाली मुस्लिम छात्राओं के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई है। शुक्रवार को दो छात्र गुटों में हुई मारपीट और पथराव की घटना के बाद कॉलेज प्रशासन यह फैसला लिया है।

वहीं कॉलेज प्रशासन के फैसले पर देवबंद के उलेमा ने कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने इसे बेतुका फरमान बताते हुए कहा कि कॉलेज प्रशासन का यह फैसला किसी भी तरह से ठीक नहीं है।

शनिवार को मुस्लिम छात्राएं बुर्का पहनकर आई थीं तो कॉलेज प्रशासन ने उन्हें प्रवेश नहीं करने दिया। प्राचार्य और अनुशासन समिति के सदस्य मुख्य गेट पर तैनात रहे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कॉलेज अनुशासन समिति के सदस्य शहरयार अली ने बताया कि छात्र-छात्राएं के लिए ड्रेस कोड अनिवार्य है। जो मुस्लिम छात्राएं बुर्का पहनकर आती हैं, उनके लिए अलग से चेजिंग रूम की व्यवस्था की गई है। घर से बुर्का पहनकर आएं, किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं। मगर कॉलेज में प्रवेश के यूनीफार्म में ही मिलेगा।

रविवार को जमीयत दावतुल मुसलीमीन के संरक्षक व प्रसिद्ध आलिम-ए-दीन मौलाना कारी इस्हाक गोरा ने कहा कि फिरोजाबाद के एसआरके कॉलेज प्रशासन का यह निर्णय महिलाओं के सम्मान के खिलाफ है। कॉलेज यह फरमान जारी कर लोकतंत्र में मिला धार्मिक आजादी के विरुद्ध गैर कानून काम किया है। 

From around the web