थोड़ा इंतजार कीजिए पता चल जाएगा किस पार्टी में शामिल होउंगी: अलका लांबा

 
थोड़ा इंतजार कीजिए पता चल जाएगा किस पार्टी में शामिल होउंगी: अलका लांबा
नई दिल्ली। आप से बगावत करने के बाद चाँदनी चौक की विधायक अलका लांबा को लेकर यह साफ़ नहीं हो पा रहा है कि वह किस पार्टी का दामन थामेंगी। या फिर निर्दलीय चुनाव लड़ेंगी। इन सारे सवालों का जवाब देते हुए अलका ने ट्वीट किया है।

अलका अपने ट्वीट में लिखती हैं- मैडम, क्या आप वापस कॉंग्रेस में जा रही हैं? मैडम, क्या आप BJP जॉइन कर सकती हैं? मैडम, क्या आप AAP के साथ ही रहेगी? मैडम, क्या आप अपनी नई पार्टी बनाएंगी? मैडम, क्या आप निर्दलीय चुनाव लड़ेंगी? सवाल अनेक, जवाब एक, जो भविष्य की कोख में अभी पल रहा है थोड़ा इंतजार कीजिए।

हाल ही में लांबा कांग्रेस की नव निर्वाचित अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने उनके निवास स्थान दस जनपथ पर पहुंचीं। अपने बागी तेवर को मुखर कर चुकी लांबा ऐसे समय में सोनिया गांधी से मिल रही हैं जब चुनाव नजदीक हैं और राजनीतिक सरगर्मियां तेज हैं।

उनका सोनिया गांधी से इस वक्त मिलना राजनीतिक दृष्टिकोण से अहम माना जा रहा है। क्योंकि लांबा के आम आदमी पार्टी के कार्यकारी सदस्य से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने आने वाले विधानसभा चुनाव में निर्दलीय लड़ने की घोषणा की थी।

पिछले दिनों जब उन्होंने इस्तीफे का ऐलान किया तो पार्टी की और से कहा गया ट्विटर पर भी उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाएगा। आप पार्टी अल्का लांबा के विधानसभा क्षेत्र से पंकज गुप्ता को उम्मीदवार बना सकती है। विधायक अल्का लांबा ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान किया है।

हालांकि वह कई मौकों पर कांग्रेस का समर्थन भी कर रही हैं। पार्टी ने उन पर आरोप लगाया है कि वह अपने विधानसभा क्षेत्र पर ध्यान नहीं देतीं। वह हमेशा विदेशों में घूमने में व्यस्त रहतीं हैं। रविवार को अल्का मुख्यमंत्री आवास के बाहर CCTV कैमरा लगवाने को लेकर धरना दे रहीं थीं।

दिल्ली में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं। जिसके पहले ही आम आदमी पार्टी कई लोक लुभावन घोषणाएं कर चुकी है। हालांकि आप ने ये बोल दिया है कि उन्हें खोने से उनकी पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा। लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार के बाद, उन्होंने AAP प्रमुख अरविंद केजरीवाल से जवाबदेही मांगी थी, जिसके बाद उन्हें पार्टी सांसदों के आधिकारिक व्हाट्सएप ग्रुप से हटा दिया गया था।

लांबा ने लोकसभा चुनावों में पार्टी के लिए प्रचार करने से भी इनकार कर दिया और यहां तक ​​कि केजरीवाल के रोड शो में भाग लेने से मना कर दिया, क्योंकि उन्हें इवेंट के दौरान अपनी कार के पीछे चलने के लिए कहा गया था।

From around the web