पति को डराने के लिए पत्नी ने खुद को लगाई आग, बचाव में पति भी झुलसा

 
पति को डराने के लिए पत्नी ने खुद को लगाई आग, बचाव में पति भी झुलसा लखनऊ।  नवरात्रि में एक तरफ जहां लोग माँ दुर्गा की पूजा करके मन चाहा वरदान पाने के लिए व्रत रखकर कामना करते हैं। वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक कलयुगी पत्नी ने चंडी (काली माँ) का रूप धारण करते हुए अपने पति सहित खुद को भी मिटटी का तेल डालकर आग में जिंदा जला दिया। 

आग की चपेट में आकर महिला और पुरुष (पति-पत्नी) गंभीर रूप से झुलस गए। चीख पुकार सुनकर पड़ोसी दौड़े और कंबल डालकर आग बुझाई तब तक पति-पत्नी की चमड़ी उधड़ चुकी थी। स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। 

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पर पहुंची पुलिस ने दोनों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया है। यहां महिला की हालत गंभीर बनी हुई है जबकि पति का भी इलाज चल रहा है। पुलिस के अनुसार, पति और पत्नी के बीच आपसी झगड़ा हुआ था। पुलिस विभिन्न बिंदुओं को ध्यान में रखकर पूरे मामले की गहनता से तफ्तीश कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, दिल को दहला देने वाली घटना हुसैनगंज थाना क्षेत्र की है। यहां छितवापुर पाजावा में सचिन सोनकर (30) अपनी पत्नी पूजा सोनकर (29) और दो बच्चों के साथ रहते हैं। पूजा मूलरूप से मडिय़ांव की रहने वाली है। उसके माता-पिता नहीं हैं। सचिन चारबाग में छोटी लाइन स्थित स्टैंड पर काम करता है। मंगलवार दोपहर दोनों के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ। इस दौरान पत्नी ने पति को डराने के लिए अपने ऊपर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली। 

आग लगते देख पति चीखते हुए दौड़ा और उसे बचाने के दौरान खुद भी झुलस गया। आग लगते ही महिला और बच्चे चीखने चिल्लाने लगे। शोर सुनकर पड़ोसी दौड़े तो उनके होश उड़ गए। इसकी सूचना लोगों ने पुलिस को दी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और गंभीर हालत में पति पत्नी को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। सिविल अस्पताल के अधीक्षक डॉ आशुतोष दुबे ने बताया कि महिला 98 प्रतिशत जल चुकी है जबकि पति 35 प्रतिशत जला है। दोनों का इलाज चल रहा है। घटना के बाद घर में दहशत का माहौल बना हुआ है।  मौके पर पुलिस फोर्स मौजूद थी जो पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

From around the web