महिला ने कैंसर पीड़ि‍तों के लिए दान दिए अपने बाल

 
महिला ने कैंसर पीड़ि‍तों के लिए दान दिए अपने बाल
रुड़की।  रामनगर (रुड़की) की सोनम भटेजा ने कैंसर पीड़ि‍तों के लिए अपने वह प्यारे बाल कटवा डाले, जिन पर उन्हें बचपन से गुमान रहा है। सोनम के ये बाल अब कैंसर पीड़ि‍त महिलाओं के लिए विग बनाने में काम आएंगे।

उन्होंने कैंसर पीड़ि‍त महिलाओं के लिए विग बनाने वाले मदद ट्रस्ट को यह बाल दान दिए हैं। जो कैंसर पीड़ि‍ताओं के लिए निश्शुल्क विग बनाता है।

सोनम भटेजा गृहणी हैं और उन्होंने अंग्रेजी में एमए किया है। वह ऐसे बच्चों को निश्शुल्क ट्यूशन भी देती हैं, जो फीस देने में सक्षम नहीं हैं। सोनम के पति कारोबारी हैं।

जागरण की रिपोर्ट के अनुसार सोनम कहती हैं कि उन्हें अपने बालों से बेहद प्यार है और लंबे रखने का शौक भी। इसलिए उन्होंने बचपन में कभी बालों पर कैंची नहीं लगने दी। उनके बाल कमर से भी नीचे थे। लेकिन, एक दिन तब उनकी धारणा बदल गई, जब उन्होंने इंटरनेट पर कैंसर पीड़ि‍तों के बारे में पढ़ा। उसमें मुंबई के 'मदद' ट्रस्ट का भी उल्लेख था।

बताया गया था कि कैंसर पीड़ि‍तों का उपचार शुरू होने पर उनके बाल झड़ जाते हैं। यह कीमोथेरेपी का साइड इफेक्ट है। कैंसर पीड़ि‍त महिलाएं बाल झड़ जाने से बेहद कुंठित महसूस करती हैं। क्योंकि उनका सिर पूरी तरह गंजा हो जाता है।

साइट पर यह भी बताया गया था कि इन कैंसर पीड़ि‍त महिलाओं के लिए 'मदद' ट्रस्ट विग तैयार करता है। जो कि केवल असली बालों से ही बनता है। इसके लिए 12-13 इंच लंबे बाल होना जरूरी है। एक विग बनाने में तीन से चार महिलाओं के बालों की जरूरत होती है।

सोनम बताती हैं कि इसे पढ़कर उन्होंने फैसला किया कि वह अपने बाल दान करेंगी। इसके बाद उन्होंने उन्होंने ट्रस्ट के बारे में जानकारी जुटाई। पता चला कि ट्रस्ट वास्तव में कैंसर पीड़ि‍त महिलाओं के लिए निश्शुल्क विग तैयार करता है। जब उन्हें भरोसा हो गया तो उन्होंने ट्रस्ट से संपर्क साधा। ट्रस्ट ने बाल कैसे कटवाने है, इसके बारे में जानकारी दी।

ट्रस्ट के निर्देशों के अनुसार उन्होंने पहले बालों को धोया और जब वह सूख गए तो ब्यूटी पार्लर जाकर उन्हें 13 इंच मेजर करवाया। इसके बाद दोनों ओर से रबड़ लगवाकर उन्हें कटवा दिया। फिर बालों को उनके एक परिचित मुंबई जाकर ट्रस्ट को दे आए। 

From around the web