मुसलमान होने की वजह से परवीन बाबी की आखिरी इच्छा रह गई थी 'अधूरी'

 
मुसलमान होने की वजह से परवीन बाबी की आखिरी इच्छा रह गई थी 'अधूरी'70 के दशक की खूबसूरत अदाकारा Parveen Babi का जन्म 4 अप्रैल 1949 को हुआ था। वह उस जमाने की पॅापुलर एक्ट्रेसेस में से एक थी। उनकी सुंदरता के लोग दीवाने थे।

सिनेमाजगत के शायद ही कोई बड़े स्टार रहे होंगे जिन्होंने परवीन बाबी के साथ काम न किया हो। उन फिल्मों में 'दीवार', 'नमक हलाल', 'अमर अकबर एन्थोनी' और 'शान' जैसी फिल्में शामिल हैं।

परवीन का जन्म गुजरात के जूनागढ़ इलाके में हुआ था। परवीन अपने माँ-बाप की इकलौती संतान थी, जो उन्हें 14 वर्षों के इंतजार के बाद हासिल हुई थी। लेकिन परवीन ने बहुत ही छोटी उम्र में अपने पिता को खो दिया था। साथ ही परवीन ने भी काफी कम उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। परवीन की मौत बड़ी ही गुमनामी मे हुई थी जिसके बाद बॉलीवुड को बहुत बड़ा झटका लगा था।

परवीन की मौत की खबर उनके पड़ोसियों ने दी थी। तीन दिनों के अखबार और दूध के पैकेट घर के सामने पड़े देख आसपास वालों ने पुलिस को सूचित करके इस घटना की जानकारी दी थी। पूरी जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने 20 जनवरी 2005 जाने से पहले परवीन ने खुदको ईसाई धर्म में बदल लिया था।


परवीन की आखिरी इच्छा थी कि उनके पार्थिव शरीर का ईसाई रीती रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार किया जाए। लेकिन उनके मुस्लिम रिश्तेदारों ने उनके पार्थिव शरीर को अपने कब्जे में लेकर मुस्लिम रिवाज के अनुसार उनकी माँ की कब्र के पास दफनाया। इस तरह उन्होंने दुनिया को अलविदा कहा था।

From around the web