भाईयों और बहनों, हमें क्षमा करना ! हम बिहारी शर्मिंदा है !

 
भाईयों और बहनों, हमें क्षमा करना ! हम बिहारी शर्मिंदा है !ध्रुव गुप्त 
अब गुजरात में एक बिहारी द्वारा चौदह महीने की नन्ही बच्ची से बलात्कार ! इस घटना की प्रतिक्रिया में अभी गुजरात में एक अपराधी के बदले तमाम उत्तर भारतीयों के जो साथ जैसा हिंसक सलूक हो रहा है और जिस तरह से उन्हें गुजरात से पलायन के लिए मज़बूर किया जा रहा है उसकी भर्त्सना और रोकथाम ज़रूर होनी चाहिए। गुजरात की सरकार और पुलिस इस हिंसा और पलायन को रोकने की भरसक कोशिश कर भी रही है। इस घटना पर किसी भी तरह की राजनीति गलत है। 

अब वक़्त यह सोचने का है कि अपने देश के अस्सी प्रतिशत से ज्यादा बलात्कारी उत्तर भारत के कुल चार प्रदेशों - बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और हरियाणा में ही क्यों पैदा होते हैं ? छोटी बच्चियों के साथ दुष्कर्म और उनकी बर्बर हत्याओं के मामलों में तो इन प्रदेशों के लोगों ने अमानवीयता की तमाम हदें पार कर रखी हैं। देश की राजधानी दिल्ली में घटने वाली बलात्कार की लगभग तमाम घटनाओं को इन्हीं चार प्रदेशों के लोग अंज़ाम देते हैं। इतनी पशुता कहां से आती है इन लोगों में ? 

अगर इन राज्यों के लोगों द्वारा बलात्कार का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब इन्हें गुजरात से ही नहीं, देश के दूसरे राज्यों से भी खदेड़ने का सिलसिला शुरू हो जाएगा।

गुजरात के हमारे भाईयों और बहनों, हमें क्षमा करना ! हम बिहारी शर्मिंदा है !
(लेखक पूर्व आईपीएस अधिकारी हैं)

From around the web