बालिका गृह में रोज छोटे कपड़ों में लड़कियों से अश्लील गानों पर करवाते थे डांस

 
बालिका गृह में रोज छोटे कपड़ों में लड़कियों से अश्लील गानों पर करवाते थे डांसमुजफ्फरपुर। बालिका गृह दरअसल भयानक यातना गृह था। वहां रहने वाली लड़कियों को गंदे भोजपुरी गानों पर डांस कराया जाता था। नशे की सूई और दवा देकर सुला दिया जाता था। उसके बाद उनका उत्पीड़न होता था। विरोध करने पर नमक रोटी खिलाई जाती थी। मारपीट आम बात थी।

सीबीआइ ने मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर सहित 21 आरोपितों के विरुद्ध विशेष पॉक्सो कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में सभी पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

ब्रजेश ठाकुर बालिका गृह का वास्तविक मालिक था। वही बालिका गृह का संचालन करता था। एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति का वह कार्यपालक निदेशक था। इसी एनजीओ के माध्यम से बालिका गृह का संचालन होता था। उस पर बालिका गृह की लड़कियों के साथ दुष्कर्म करने का आरोप लगाया गया है। इसमें उसके साथ रवि रोशन व मामू सहित बालिका गृह की अन्य कर्मचारी सहयोगी थे।

वह अन्य आरोपितों के साथ मिलकर लड़कियों को गंदे भोजपुरी गानों पर डांस करने को विवश करता था। वह लड़कियों को दूसरे लोगों के पास भेजता था। विरोध करने वाली लड़कियों के अंगों को लक्षित कर पिटाई करता था।

रवि कुमार रोशन बाल संरक्षण पदाधिकारी (सीपीओ) था। ब्रजेश के साथ-साथ उस पर भी अधिकतर लड़कियों ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है। वह छोटे कपड़े में गंदे गाने पर डांस करने के लिए लड़कियों को विवश करता था। विकास कुमार बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) का सदस्य था। उस पर भी लड़कियों ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है। वह अन्य आरोपितों के साथ मिलकर लड़कियों को नींद की गोलियां देता था।

दिलीप कुमार वर्मा बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) का अध्यक्ष था। लड़कियों ने उसकी पहचान फोटो से की। उसने उसे सबसे गंदा आदमी बताया। वह लड़कियों से साथ दुष्कर्म करता था। वह ब्रजेश ठाकुर का खास था।

From around the web