यहां लड़का पान खिलाकर करता है प्यार का इजहार और फिर भागकर करते हैं शादी

 
यहां लड़का पान खिलाकर करता है प्यार का इजहार और फिर भागकर करते हैं शादीइंदौर। होली के पहले आदिवासी अंचल धार, झाबुआ, खरगोन में भगोरिया का रंग 14 मार्च से जमने लगेगा। किस गांव में किस दिन भगोरिया उत्सव आयोजित होगा, इसको लेकर तारीखें घोषित हो गईं हैं।

भगोरिया हाट-बाजारों में युवक-युवती सजधज कर भावी जीवनसाथी को ढूंढने आते हैं। इनमें आपसी रजामंदी जाहिर करने का तरीका भी बेहद निराला होता है। सबसे पहले लडक़ा लडक़ी को पान खाने के लिए देता है। यदि लडक़ी पान खा लें तो हां समझी जाती है।

इसके बाद लडक़ा लडक़ी को लेकर भगोरिया हाट से भाग जाता है और दोनों विवाह कर लेते हैं। इसी तरह यदि लडक़ा लडक़ी के गाल पर गुलाबी रंग लगा दे और जवाब में लडक़ी भी लडक़े के गाल पर गुलाबी रंग मल दे तो भी रिश्ता तय माना जाता है।

इस बार भी भगोरिया के दौरान आदिवासी अंचल में जमकर होली का गुलाल उड़ेगा। इसके साथ ही मेले लगेंगे और मांदल की थाप पर झूमकर लोग नाचेंगे। भगोरिया को लेकर तैयारियां अभी से शुरू हो गई हैं, क्योंकि होली के पहले मनने वाले इस महोत्सव को लेकर महज 2 माह ही बाकी है।

भगोरिया में अधिक से अधिक लोग जुटें और आदिवासियों की परंपरागत संस्कृति से अवगत कराने के लिए पर्यटन विभाग खासे इंतजाम कर रहा है। साथ ही खूब प्रचार-प्रसार भी किया जाएगा। पूरे एक सप्ताह तक यह महोत्सव अलग-अलग गांव में मनेगा।

From around the web