अटल जी के जमाने में लोकशाही थी, अभी बीजेपी में तानाशाही है : शत्रुघ्न सिन्हा

 
अटल जी के जमाने में लोकशाही थी, अभी बीजेपी में तानाशाही है : शत्रुघ्न सिन्हापश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के  ‘ब्रिगेड परेड ग्राउंड’ में आयोजित ‘एकजुट भारत रैली’ में विपक्षी नेताओं के साथ शनिवार को भाजपा के बागी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने मंच साझा किया।

मंच साझा करते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने आगामी लोकसभा चुनाव में सरकार बदलने का आह्वान किया और कहा कि वह सत्तारूढ़ दल से हटाए जाने से नहीं डरते। उन्होंने कहा कि वह पार्टी को आईना दिखाना जारी रखेंगे। रैली में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर जमकर निशाना साधा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सिन्हा ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी जी के समय में भाजपा में लोकशाही थी। नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में तो तानाशाही है। कोई भी बड़ा फैसला लेने से पहले राय-मशविरा नहीं किया जाता। नोटबंदी जैसा बड़ा फैसला ले लिया गया, लेकिन किसी से इसके बारे पूछा तक नहीं गया।

सिन्हा कई मुद्दों पर अपनी पार्टी से नाराज हैं और नोटबंदी, जीएसटी लागू करने जैसे कई कदमों की उन्होंने आलोचना की है। उन्होंने कहा कि कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी द्वारा आयोजित रैली में वह ‘राष्ट्र मंच’ के प्रतिनिधि के तौर पर हिस्सा ले रहे हैं। इस संगठन की स्थापना भाजपा के पूर्व नेता यशवंत सिन्हा ने की है।

रैली में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ‘‘मेरे बड़े भाई यशवंत सिन्हा कह रहे थे कि इसके बाद पार्टी से मुझे जरूर निकाल दिया जाएगा। मैंने उनसे कहा कि कोई बात नहीं।’’ हिन्दी फिल्मों में दमदार संवाद के लिए पहचाने जाने वाले शत्रुघ्न ने कहा, ‘‘वह भारतीय जनता पार्टी में हैं लेकिन इसके पहले वह भारत की जनता के साथ हैं।’’ दो दिन पहले सिन्हा ने कहा था कि भाजपा में उन्हें सम्मान नहीं मिला और वह कोलकाता रैली में हिस्सा लेंगे।

From around the web