मसूद अजहर की ढाल बनने पर चीन की सफाई

 
मसूद अजहर की ढाल बनने पर चीन की सफाईचीन ने संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में जैश-ए-मोहम्मद सरगना और आतंकी मसूद अजहर के लिए वीटो इस्तेमाल करने पर सफाई दी है. चीन ने कहा है कि जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी के तौर पर सूचीबद्ध करने के लिए उसे गहराई से जांच करने के लिए और समय चाहिए.
चीन ने लगातार गुरुवार को चौथी बार भारत को झटका देते हुए आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित होने से बचा लिया. भारत पिछले 10 साल से मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की मांग कर रहा है.
अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति से मौलाना मसूद अजहर पर हर तरह के प्रतिबंध लगाने की मांग की थी. इस प्रस्ताव में कहा गया था कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर हथियारों के व्यापार और वैश्विक यात्रा से जुड़े प्रतिबंध लगाने के साथ उसकी परिसंपत्तियां भी ज़ब्त की जाएं.
चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा, चीन का रुख संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति के नियमों और प्रक्रियाओं के अनुरूप है. तकनीकी पकड़ यह सुनिश्चित करने के लिए है कि चीन के पास इस मामले का अध्ययन करने के लिए समय चाहिए.

From around the web