लड़की को 10 साल लग गए समझने में कि उसका हो रहा है RAPE

 
लड़की को 10 साल लग गए समझने में कि उसका हो रहा है RAPEअमरीका की रहने वाली मरीसा कोर्बेल को ये समझने में दस साल लग गए कि असल में उसका साथी उसके साथ यौन संबंध नहीं बना रहा था, बल्कि उसका बलात्कार कर रहा था।

अब मां बन चुकी कोर्बेल को उस तजुर्बे से पीछा छुड़ाने में कई साल लग गए. मानसिक इलाज कराना पड़ा। अब वो यौन हिंसा की शिकार लड़कियों की मदद करने वाली वक़ील बन गई है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार आज भी मरीसा कोर्बेल उस तजुर्बे को याद कर के उन लड़कियों का दर्द समझने की कोशिश करती हैं, जिनकी वो मदद करना चाहती हैं। मरीसा कोर्बेल के लिए वो अनुभव बहुत तकलीफ़देह था।

वैसे, अपने साथ हो रहे बलात्कार से इनकार करने वाली मरीसा कोर्बेल इकलौती महिला नहीं हैं. कई रिसर्च के निचोड़ पर नज़र डालें, तो पता चलता है कि 14 बरस या इससे ज़्यादा उम्र की जो लड़कियां ज़बरदस्ती की शिकार हुईं, उनमें से 60 प्रतिशत ने इसे बलात्कार मानने से इनकार कर दिया।

बलात्कार को लेकर आम धारणा है कि एक मर्द किसी अंधेरी गली से गुज़रती लड़की से ज़बरदस्ती करता है। जब भी कोई यौन हिंसा की घटना इससे इतर होती है, तो लोग उसे बलात्कार कहने से कतराते हैं। हक़ीक़त ये है कि बलात्कार के आरोपी अक्सर अनजान लोग नहीं, बल्कि जान-पहचान वाले होते हैं। बलात्कार के वक़्त अक्सर पीड़ित होश खो बैठते हैं, तो वो प्रतिरोध नहीं कर पाते हैं. ये लकवे वाली हालत होती है. इसमें पीड़ितों की सहमति नहीं होती. मगर, उनका विरोध न करना, सहमति मान लिया जाता है। 

From around the web