दोनों हाथों में भिक्षा पात्र रख सम्मान नहीं पा सकता पाकिस्तान

 
दोनों हाथों में भिक्षा पात्र रख सम्मान नहीं पा सकता पाकिस्तानपाकिस्तान की पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने अपने एक बयान में कहा है कि उनके मुल्क को आर्थिक, राजनीतिक या सैन्य तौर पर अमेरिका पर निर्भर रहने के बजाए भारत और अन्य पड़ोसी देशों के साथ अच्छे संबंध बनाना चाहिए.

हिना ने शनिवार को 'थिंक फेस्ट' में अमेरिका-पाकिस्तान संबंधों पर बयां देते हुए कहा है कि पाकिस्तान हमेशा से ही खुद को एक पूर्ण रणनीतिक साझेदार होने की कल्पना करता रहता है, जो कि बहुत दूर की बात है.

पाकिस्तानी मीडिया में रविवार को आई एक खबर के अनुसार, पूर्व विदेश मंत्री ने कहा है कि पाकिस्तान अपने दोनों हाथों में भिक्षा पात्र रखकर प्रतिष्ठा नहीं प्राप्त कर सकता है. वर्ष 2011 से 2013 तक पाकिस्तान की प्रथम महिला विदेश मंत्री रहीं हिना ने कहा है कि पाकिस्तान को अमेरिका से अहम् संबंध रखने के बजाए अफगानिस्तान, भारत, ईरान और चीन के बेहतर सम्बन्ध रखना चाहिए.

उन्होंने कहा है कि अमेरिका उतनी अहमियत पाने का अधिकारी नहीं है, जितनी पाकिस्तान उसे दे रहा है क्योंकि हमारी अर्थव्यवस्था अमेरिका की मदद पर निर्भर नहीं करती है, जैसा कि वैश्विक तौर पर माना जाता है. आपको बता दें कि हिना रब्बानी खार ही कार्यकाल के दौरान आतंकी संगठन अलकायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन एक अमेरिकी सैन्य अभियान में पाकिस्तान के ऐबटाबाद में मई 2011 में मारा गया था.

From around the web