नहीं है इस समुन्द्र का कोई किनारा...

 
नहीं है इस समुन्द्र का कोई किनारा...हम ये मानते हैं कि पानी से भरे समंदर के दूसरे छोर का शायद पता न चल सके लेकिन इसका कम से कम एक किनारा ज़रूर होता है। कई समंदर तो चारों तरफ से ज़मीन से घिरे होते हैं, जैस कि भूमध्य सागर और काला सागर. कभी-कभी ऐसा भी होता है कि सागर कहां महासागर में मिल जाते हैं पता नहीं चलता लेकिन ऐसे में द्वीपों की माला को जोड़ कर देखा जाए तो इसकी जानकारी भी लगाई जा सकता है।

लेकिन एक ऐसा  समंदर है जिसके किसी किनारे कोई ज़मीन नहीं है. ये है सारगास्सो सागर। ये अटलांटिक सागर के पश्चिम में है और उत्तर अटलांटिक में एक तरफ को मुड़ती लहरें ही इसकी सीमा बनाती हैं. अटलांटिक की मुड़ती लहरों के कारण सारगास्सो सागर का पानी शांत रहता है। 

From around the web