मुफ्त में बिजली-पानी देना संभव नहीं, दिल्ली में सरकार बनी तो करवाएंगे जांच

 
मुफ्त में बिजली-पानी देना संभव नहीं, दिल्ली में सरकार बनी तो करवाएंगे जांचनई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन को लेकर चल रहे कयास का अंत हो गया। दरअसल दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालते ही पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने साफ कर दिया है कि वे आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेंगे।

उन्होंने यह भी साफ कर दिया के यदि AAP कोई ऑफर लेकर सामने आता है भी है तो भी हम उनके साथ शामिल नहीं होंगे। शीला दीक्षित ने कहा है कि आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के लोगों से मुफ्त में पानी और बिजली देने की बात कही है, जो कि संभव नहीं है। यदि उनकी सरकार दिल्ली में बनती है तो इस बात की जांच करवाएगी।

बता दें कि आम आदमी पार्टी पर शीला दीक्षित ने कई आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि इस समय दिल्ली के हालात बहुत ही गड़बड़ है। अभी बहुत कुछ करने की जरुरत है। फिलहाल मैं लोगों से उनके असल मुद्दों को समझने के लिए मिल रही हूं। उसी के अनुरुप योजना बना रही हूं जिसका खुलासा बहुत जल्द करेंगे।

शीला दीक्षित ने आम आदमी पार्टी पर कई आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने अपना ज्यादातर समय अपने कामों का विज्ञापन देने में खर्च किया है। लेकिन सच्चाई यह है कि जमीन पर केजरीवाल सरकार ने कुछ भी नहीं किया है।

शीला दीक्षित ने कहा कि इस बर हम पहले उन मुद्दों और पहलुओं पर काम कर रहे हैं जिनके कारण पिछली बार असफल हुए थे। उन्होंने केजरीवाल सरकार पर हमला करते हुए कहा कि 2015 के चुनाव में आम आदमी पार्टी ने लोगों से कई वादे किए थे जिससे जनता आकर्षित हो गई थी।

लेकिन अब उनके सपनों को पूरा नहीं किया है। दिल्ली जैसे शहरों में मुफ्त में बिजली और पानी देना संभव नहीं है। बता दें कि शुक्रवार को केजरीवाल सरकार की ओर से भी यह साफ कर दिया गया कि कांग्रेस के साथ कोई गठबंधन नहीं होगा। आम आदमी पार्टी तीन राज्यों (दिल्ली, पंजाब और हरियाणा) में अकेले चुनाव लड़ेगी।

From around the web