पैसे के लिए बेटी की इज्जत का सौदा कर रहे कलयुगी मां-बाप, रेप केस वापस लेने को मांग रहे 50 हजार

 
पैसे के लिए बेटी की इज्जत का सौदा कर रहे कलयुगी मां-बाप, रेप केस वापस लेने को मांग रहे 50 हजारमेरे बेगुनाह बेटे पर लड़की के घरवालों ने फर्जी बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवा दिया । पुलिस ने उसे बिना मामले की जांच के लिए गिरफ्तार भी कर लिया । जबकि बेटे ने कुछ नहीं किया। लड़की ने मनगढंत कहानी बनाकर उसे सलाखों के पीछे पहुंचा दिया । बेटा दो दिनों से थाने में बंद है, जबकि लड़की घूम रही है और उसका बाप दारू पीकर 50 हजार रुपये मांग रहा है। हमारी कोई सुनने वाला नहीं, लड़की और उसकी माँ कुछ पुलिसवालों के घर झाड़ू -बर्तन का काम करती है। इसलिए पुलिस लड़की वालों का साथ दे रही है । ये रेप के आरोप में गिरफ्तार किये गए युवक के परिवार का कहना है। 

पीडि़त के परिवार ने कहा जब बेटा लड़की को अनजानी जगह ले जा रहा था तो वह चीखी चिल्लाई क्यों नहीं ? घटना के फौरन बाद उसने पुलिस को क्यों नहीं बताया ? आखिर इतने दिनों तक घटना क्यों छिपाये रही? आरोप है कि घरवालों ने दो माह पहले हुए झगड़े और अपनी खुन्नस के कारण उनके बेटे को फंसाया है । कौन कितना सच बोल रहा है या झूठ ये पुलिस की जांच का विषय है । फिलहाल पुलिस इस मामले में आगे की कार्रवाई कर रही है । वहीं पीडि़त लड़के वालों ने एसएसपी कलानिधि नैथानी से न्याय की गुहार लगाई है ।

समझौते के लिए 50 हजार रुपये मांग रहे लड़की के घरवाले
बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किये गए राहुल यादव की माँ मंजू यादव ने बताया कि वह घरों में झाड़ू-पोछा करके अपने परिवार का पेट पालती हैं। पति ने करीब 18 साल पहले ही उन्हें छोड़ दिया था। तब से उन्होंने बेटे की परवरिश करके उसे बड़ा किया। अब बेटा भी थोड़ा बहुत काम करके माँ का हाथ बंटाता है। बेटा 18 साल का हो गया है। मंजू ने बताया कि करीब दो महीने पहले उनकी ही गली में रहने वाले एक परिवार से कुछ कहासुनी हो गई थी। तब से ये परिवार उनके पीछे हाथ धो के पड़ा हुआ है। मंजू ने बताया कि जिस लड़की ने उनके बेटे पर आरोप लगाया है वह लड़की और उसकी माँ कुछ पुलिसवालों के घर में बर्तन-झाड़ू का काम करती है। पुरानी रंजिश में उनके बेगुनाह बेटे पर बलात्कार का केस दर्ज करवा दिया। बेटा थाने में बंद है और लड़की के घरवाले समझौता करने के लिए 50 हजार रुपये मांग रहे हैं। मंजू का कहना है कि जब बेटे ने कुछ किया ही नहीं तो वह पैसे किस बात के लिए दें। इतने पैसे कहाँ से लायेंगी? पुलिस भी लड़की के घरवालों के साथ खड़ी है।
ये है फर्जी बलात्कार के केस का पूरा घटनाक्रम
मंजू के अनुसार, बीते शुक्रवार को वह घरों में बर्तन-चौका का काम करने गई थी। रात में करीब 9 बजे वह अपने बेटे के साथ घर पहुंची। जैसे ही वह घर में दाखिल हुईं कुछ देर बाद पुलिस आ गई। पुलिस उनके बेटे को ले जाने लगी। मंजू ने कारण पूछा तो पुलिसकर्मियों ने कहा कि इसने लड़की से छेड़छाड़ की है, पूछताछ के लिए ले जा रहे हैं फिर छोड़ देंगे। मंजू ने पूछा साहब किस थाने ले जा रहे हैं तो पुलिसकर्मियों ने बताया आशियाना थाना। इसके बाद वह राहुल को अपने साथ ले गए और थाने में बंद कर दिया। बेटे को थाने में बंद देख वह परेशान हो गईं। इधर 15 वर्षीय लड़की घर में चैन से घूम रही थी। उसके माँ-बाप भी खुश थे। पुलिस तहरीर के इंतजार में थी लेकिन तहरीर नहीं मिली। इसके बाद पुलिस ने रविवार शाम को राहुल को छोड़ दिया। राहुल जैसे ही घर पहुंचा वैसे से थाने से फोन आया कि अपने बेटे को लेकर आओ तहरीर मिल गई है। मंजू ने बताया कि रविवार की शाम 6 बजे के आसपास लड़की के घरवालों ने तहरीर दी। इसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर बेटे को हवालात में बंद कर दिया।
पुलिस कर्मी की पत्नी बोली कि फर्जी केस दर्ज करवाकर जेल में डलवायेंगे
रेप के आरोप में गिरफ्तार राहुल की माँ ने कहा कि उनके मोहल्ले में रहने वाले पुलिसकर्मी जिनके यहाँ लड़की और उसकी माँ काम करती है उनकी पत्नी पता नहीं क्यों हमसे खुन्नस खाए है। वो कह रही है कि अगर पैसे देकर राहुल को छुड़ा भी लिया तो फिर से फर्जी केस दर्ज करवाके जेल भेजवा देंगे। राहुल को जेल में डलवाकर ही रहेंगे।
सटीक मुखबिरी कर रहा मोहल्ले का कोई व्यक्ति
राहुल की माँ का कहना है कि उनके घर की सटीक मुखबिरी कोई व्यक्ति कर रहा है। क्योंकि वह जैसे ही बेटे के साथ घर आई वैसे ही कुछ देर बाद पुलिस आ गई। जब वह घर पर नहीं होती हैं तो बलात्कार का आरोप लगाने वाली लड़की भी घर आ जाती है। लड़की का पिता भी शराब पीकर गाली-गलौज करता है। पीडि़त माँ की कोई सुनने वाला नहीं है। मंजू ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है।
मेडिकल जाँच कराने से लड़की ने किया मना
मंजू ने बताया कि लड़की ने बलात्कार का आरोप लगाने के बाद मेडिकल करवाने से क्यों मना कर दिया था। अगर उसके साथ बलात्कार हुआ है तो वह क्यों इससे बच रही थी। मंजू ने कहा कि लड़की ने जिस दिन आरोप लगाया उस दिन वह पैदल चल के घर आई थी। बेटे ने उसे बाइक पर बैठाने से मना कर दिया था। उनका बेटा हर बात अपनी माँ को बता देता है। उसके बेटे को फर्जी फंसाया गया है।
बाइक पर जबरन बैठकर जंगल में कोई कैसे ले जा सकता है ?
मंजू ने सवाल उठाया कि कोई किसी लड़की को जबरन बाइक पर बैठाकर गाड़ी कैसे चला पायेगा? पीडि़त लड़के के परिवार ने कहा जब बेटा लड़की को अनजानी जगह ले जा रहा था तो वह चीखी चिल्लाई क्यों नहीं? घटना के फौरन बाद उसने पुलिस को क्यों नहीं बताया? आखिर इतने दिनों तक घटना क्यों छिपाये रही? मंजू ने कहा कि मेरे ये समझ नहीं आ रहा है कि पैसे के लिए कोई माँ-बाप अपनी बेटी की इज्जत का सौदा कैसे कर देता है ये पहले हमने अखबारों में पढ़ा और सुना था। लेकिन इस घटना ने ये करीब से दिखा दिया। पीडि़त लड़के की माँ ने एसएसपी कलानिधि नैथानी से न्याय की गुहार लगाई है।
लड़की ने सिपाही के लड़के को बताई बलात्कार होने की बात
मंजू का मोबाईल नम्बर ट्रू कॉलर मोबाईल एप्प पर मंजू कूक (मंजू कुक) के नाम से दिखा रहा है। मंजू ने बताया कि इस दिन लड़की ने आरोप लगाया उस दिन उसके माँ-बाप एक शादी में गए थे। लड़की रात के दस बजे तक गायब थी। जिनकी निगरानी में लड़की को उसके घरवाले छोड़ गए थे वो खोजबीन कर रहे थे। जब लड़की आयी तो उसके कुछ किसी को नहीं बताई। जब उसके माँ बाप वापस आये तो उन्हें भी लड़की ने कुछ नहीं बताया। मंजू को भी लड़की ने कुछ नहीं बताया। मंजू के अनुसार मोहल्ले में रहने वाले एक पुलिसकर्मी का बेटा छोटू है लड़की ने उसे अकेले में बताया। जिस समय मोहल्ले में लोगों का हुजूम लगा था तब लड़की की माँ कह रही थी कि वह सबके सामने कुछ नहीं बताएगी। वह छोटू को बताएगी। इसके बाद लड़की ने राहुल पर रेप का आरोप लगाया। रविवार देर रात मीडिया को लड़की ने मनगढ़ंत कहानी बता डाली। अब लड़के की माँ न्याय के लिए दर-दर भटक रही है।
मीडिया और पुलिस के सामने लड़की ने दिया ये बयान
उन्नाव निवासी दंपती परिवार के साथ आशियाना में रहते हैं। 13 दिसंबर को रिश्तेदार की शादी में शामिल होने के लिए माता-पिता उन्नाव गए थे। देर शाम उनकी 13 वर्षीय की बेटी सब्जी खरीदने निकली। आरोप है कि सब्जी खरीदकर लौटते वक्त पड़ोस में रहने वाला राहुल मिला और घर छोडऩे की बात कहते हुए बाइक पर बैठा लिया। हालांकि घर न ले जाकर सुनसान जगह ले गया। बाइक सड़क किनारे खड़ी करने के बाद किशोरी को झाडिय़ों में ले जाकर रेप किया। इसके बाद किसी से शिकायत पर जान से मारने की धमकी देते हुए बाइक पर बैठाया और घर के पास छोड़ कर चला गया। रविवार को लौटे माता-पिता ने बेटी को गुमसुम देख कारण पूछा। काफी देर चुप रहने के बाद किशोरी फफक पड़ी। पूरे मामले की जानकारी पर पीडि़त परिवार आरोपित के घर शिकायत करने पहुंचा। इस पर आरोपित और उसके परिवारीजनों ने धमकाना शुरू कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्थिति संभालते हुए आरोपित को पकड़कर थाने लाई। इंस्पेक्टर आशियाना अखिलेश पांडेय के अनुसार रिपोर्ट दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। फिलहाल लड़की कुछ बता नहीं पा रही है। पिता की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है। वहीं युवक के घरवालों ने सारे आरोप फर्जी और मनगढंत बताये हैं।
-सांकेतिक तस्वीर 

From around the web