कान्हा खो गया दिल मेरा तेरे वृन्दावन में...

 
कान्हा खो गया दिल मेरा तेरे वृन्दावन में...
आगरा। दिन में तो हम बहुत परोपकार की बातें करते है पर रात के अकेले में हम अपने से क्या बात करते है ये मायने रखता है | पाप को छोड़ने की कोशिश मत करिये बल्कि परोपकार करने की आदत डालिये फिर पाप अपने आप छूट जायेगा और भागवत कराने या सुनने से पाप धुलते है |

ये कहना था बल्केश्वर स्थित श्री महालक्ष्मी मंदिर पर चल रही कथा मे व्यासपीठ से पं. राजीव वशिष्ठ महाराज का | श्रीमद्भागवत कथा मे दूसरे दिन सोमवार को कपिलोपाख्यान एवं ध्रुव- चरित्रादि संवाद का वर्णन किया गया |

भागवत कथा सुनने के लिए पुरुषो की अपेक्षा महिला श्रोताओ मे भक्ति का उत्साह अधिक देखने को मिला | व्यास पं. राजीव वशिष्ठ महाराज के कथावचन के दौरान पूरा मंदिर प्रांगण राधे-राधे गोविन्द राधे के जयकारों से गुंजायमान हो उठा। कथा के मुख्य यजमान अनिल अग्रवाल एंव कंचन अग्रवाल है। वही दैनिक यजमान विपिन अग्रवाल एवं स्नेहलता अग्रवाल रहे।

भागवत कथा के दूसरे दिन कथा व्यास पं. राजीव वशिष्ठ महाराज के मुखारविंद से ''कान्हा खो गया दिल मेरा तेरे वृन्दावन में... " भजन से कथा स्थल का वातावरण भक्ति मे सराबोर हो गया| भागवत कथा का आयोजन हरि बोल सेवा समिति द्वारा कराया जा रहा है जो कि 7 सितम्बर तक दोपहर 2 से शाम 6 बजे तक चलेगी। मिडिया समन्वयक सीपी चौहान ने बताया कि आज जड़भरत चरित्र एवं नरसिंह अवतार की कथा का वर्णन किया जाएगा।

कलश यात्रा में संस्थापिका ममता सिंघल, मुख्य संरक्षक योगेश गुप्ता, अध्यक्ष अनुज सिंघल, विष्णु अग्रवाल, अनिल गुप्ता, विक्की गर्ग, नरेंद्र अग्रवाल, राधे कपूर, रामगोपाल, बेबी अग्रवाल, आशा गर्ग, नीतू गर्ग, अल्पना गर्ग, सरोज मंगल, आशा जिंदल, अर्चना अग्रवाल, जागृति अग्रवाल, अनु जैसवाल, मंजू वर्मा, विनीता अग्रवाल, पूजा अग्रवाल, शिखा अग्रवाल, पूजा शर्मा, वर्षा शर्मा, रेनू वर्मा, डोली अग्रवाल, प्रतिमा गुप्ता, मधु बंसल,  राजकुमारी अग्रवाल मीना गर्ग, गुंजन अग्रवाल, चंचल बंसल, गायत्री गुप्ता, सावित्री गुप्ता, सुनीता अग्रवाल, सरला अग्रवाल, रेनू अग्रवाल आदि मौजूद रही |

From around the web