गांधी की स्वच्छता सोच को मोदी ने दिया जनांदोलन का रुप: राजनाथ

 
गांधी की स्वच्छता सोच को मोदी ने दिया जनांदोलन का रुप: राजनाथ
नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को नई दिल्ली छावनी में महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने इस अवसर पर राष्ट्रपिता को एक विलक्षण व्यक्ति बताते हुए कहा कि सत्ता में नहीं रहने के बावजूद लोगों के दिलो दिमाग पर उनका व्यापक प्रभाव था।
महात्मा गांधी की प्रतिमा उनकी 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में रक्षा संपदा निदेशालय द्वारा दिल्ली छावनी के नागेश गार्डन में लगाई गई है। सिंह ने महात्मा गांधी के साथ ही देश के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की।
इस मौके पर सिंह ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि महात्मा गांधी के राजनीतिक कार्यक्रमों में आम जनता के लिए एक तरह का आर्थिक,  सामाजिक और सांस्कृतिक संदेश भी निहित था। चंपारण सत्याग्रह का उल्लेख करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि नील की खेती करने वाले किसानों के हितों के लिए संघर्ष करते समय गांधी जी ने उन लोगों से अपने आस-पास के स्थानों और गांवों को साफ रखने का भी आह्वान किया था। गांधी जी के लिए यह आजादी जितना ही महत्वपूर्ण मुद्दा था।
रक्षा मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी की स्वच्छता की सोच और कार्यों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जनांदोलन का रूप दिया है। इसकी वजह से ही आज घरों में बने शौचालयों की संख्या 2014 के 37 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर 98 प्रतिशत हो गई है। पिछले पांच वर्षों के दौरान देश में कुल 11 करोड़ शौचालय बनाये गये हैं। 
सिंह ने लोगों से स्वच्छता कार्यक्रम का दायरा पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र तक बढ़ाने तथा पर्यावरण के लिए नुकसानदेह एकल इस्तेमाल वाले प्लास्टिक को उपयोग में नहीं लाने की शपथ लेने का आग्रह किया। उन्होंने लोगों से कहा कि वे प्लास्टिक की थैलियों की बजाय  पर्यावरण अनुकूल कपड़े के थैलों का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि इससे गरीब लोगों को रोजगार मिलेगा और नदियों को प्रदूषित होने से बचाया जा सकेगा, जोकि अपनी सभ्यता को बचाने जैसा है।
रक्षा मंत्री ने उपस्थित लोगों को स्वच्छता की शपथ दिलाई और बाद में स्वच्छता ही सेवा अभियान में हिस्सा लेते हुए वहां एक पौधा भी लगाया।
इस अवसर पर भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया। उन्होंने देश भर में 62 छावनी क्षेत्रों को पूरी तरह से खुले में शौच से मुक्त बनाने के लिए रक्षा संपदा महानिदेशालय तथा छावनी बोर्ड की सराहना की।
सचिव (रक्षा वित्त), गार्गी कौल, रक्षा महानिदेशक दीपा बाजवा, जनरल ऑफिसर कमांडिंग, मुख्यालय, दिल्ली क्षेत्र लेफ्टिनेंट जनरल असित मिस्त्री, रक्षा लेखा महानियंत्रक संजीव मित्तल और मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद थे।
स्कूली बच्चों ने वैष्णव जन तो भजन गाया और महात्मा गांधी के प्रिय विषयों पर प्रस्तुति दी।

From around the web