पर्रिकर की सलामती के लिए BJP मुख्यालय में पढ़ी गई थी कुरआन

 
पर्रिकर की सलामती के लिए BJP मुख्यालय में पढ़ी गई थी कुरआनगोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को उनके निजी आवास पर निधन हो गया। वह 63 साल के थे। चार बार के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री पर्रिकर फरवरी 2018 से ही अग्नाशय संबंधी बीमारी से जूझ रहे थे।

पिछले एक साल से बीमार चल रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता का स्वास्थ्य दो दिन पहले बहुत बिगड़ गया था। सूत्रों ने बताया कि पूर्व रक्षा मंत्री पर्रिकर शनिवार देर रात से ही जीवनरक्षक प्रणाली पर थे। राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया मुख्यमंत्री का निधन रविवार शाम छह बजकर चालीस मिनट पर हुआ।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पर्रिकर की मृत्यु से पहले उनकी सलामती के लिए भाजपा मुख्यालय में दस मौलवियों ने इस्लाम धर्म की पवित्र किताब ‘कुरआन’ का पाठ किया था।

राज्य के आर्कबिशप फिलिप नेरी फेराओ ने भी कैथोलिक समुदाय से उनके लिए प्रार्थना करने की अपील की थी। ऐसा आखिर तक चलता रहा क्योंकि पर्रिकर भाजपा के उन चंद नेताओं में से एक थे जिनकी धर्मनिरपेक्ष छवि मानी जाती थी।

From around the web