तो क्या आपत्तिजनक स्थिति में थे सना और विवेक?, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुल गया ये राज़

 
तो क्या आपत्तिजनक स्थिति में थे सना और विवेक?, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुल गया ये राज़लखनऊ। एपल मैनेजर विवेक तिवारी की लखनऊ में शनिवार रात सिपाही ने जान ले ली दी। इससे पूरा देश स्तब्ध है लेकिन विवेक तिवारी की अब पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट भी सामने आ चुकी है। इस रिपोर्ट में कई ऐसे चौंकाने वाले खुलासे हो गए हैं जिससे खाकी की असलियत सामने आ गई है।

विवेक तिवारी की पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट में जो सबसे बड़ा खुलासा हुआ है वो है उनको जो गोली लगी है वो ऊपर से नीचे की ओर तिरछी उनके शरीर में धंसी, यानि गोली उनको ऊपर से मारी गई। घटना में मौजूद विवेक की दोस्त सना ने भी इस बात की पुष्ट की है कि सिपाही प्रशांत चौधरी ने जब विवेक को गोली मारी तो वो गोमतीनगर के डिवाइडर पर चढ़ गया था जबकि पुलिस कह रही थी कि उसने आत्मरक्षा में गोली मारी थी।

पुलिस अफसरों ने एक और दावा किया था कि वो दोनों आपत्तिजनक हालत में थे जबकि दोनों की कार जब टकराई तो एयरबैग खुल गये थे। इसका मतलब दोनों ने सीट बैल्ट लगाई हुई थी। बिना सीट बैल्ट के एयर बैग नहीं खुलते हैं। अब पुलिस कैसे साबित कर रही है कि दोनों आपत्तिजनक हालत में थे। क्या सीट बैल्ट लगाकर कोई आपत्तिजनक हालत में हो सकता है।

साफ है कि वो डिवाइडर में चढ़ा था तो उसको कैसे अपनी जान का खतरा था। जबकि पुलिस के अफसरों का कहना था कि विवेक उसपर गाड़ी चढ़ाने जा रहे थे, इसलिए उसने आत्मरक्षा में उनपर फायर किया। हालांकि सना का कहना है कि प्रशांत ने दोनों हाथों से पिस्टल पकड़ी थी और विवेक पर गोली दागी। गोली उनकी ठोडी को चीरते हुए गर्दन में फंस गयी थी।

From around the web