अगर लंबी उम्र चाहिए तो स्मार्टफोन से रहें दूर: स्टडी

 
अगर लंबी उम्र चाहिए तो स्मार्टफोन से रहें दूर: स्टडी
स्मार्टफोन धीरे-धीरे लोगों की जिंदगी का हिस्सा बनता जा रहा है। आज की तारीख में कई ऐसे लोग मिल जाएंगे, जिन्हें स्मार्टफोन के बिना जीवन सूना लगने लगता है। लेकिन क्या आपने सोचा है कि जीवनसाथी बनता जा रहा स्मार्टफोन आपकी जिंदगी का दुश्मन भी हो सकता है।

यह स्मार्टफोन ना सिर्फ आपके लिए बल्कि आपके बच्चों के लिए भी उतना ही खतरनाक बनता जा रहा है। हालांकि, अक्सर सब जानते हुए लो चीजों को नजरअंदाज करते हैं लेकिन यह लापरवाही आपकी जिंदगी के दिन कम करती जा रही है।

अगर यकीन नहीं आता तो यह बात हम नहीं बल्कि एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि फोन का ज्यादा इस्तेमाल जान पर भी भारी पड़ सकता है। लंबा और स्वस्थ जीवन जीने के लिए फोन का कम इस्तेमाल महत्वपूर्ण कदम है।

शोध में कहा गया है कि स्मार्टफोन का ज्यादा इस्तेमाल करना आपके लिए हानिकारक होता है और इससे कईं ऐसे हार्मोन प्रभावित होते हैं जो आपकी आदतों और जिंदगी पर सीधा असर डालते हैं।

जब भी फोन के इस्तेमाल से शरीर पर असर की बात होती है, तब डोपामाइन का नाम सामने आता है। यह दिमाग में पाया जाने वाला रसायन है, जो हमारी आदतें निर्धारित करने में भूमिका निभाता है। किसी चीज की लत लगने में भी इसकी भूमिका रहती है। स्मार्टफोन और एप्स को इस तरह बनाया जाता है कि इनके संपर्क में रहने से डोपामाइन का स्राव बढ़ जाता है।

ऐसा होने के कारण व्यक्ति को इनकी लत लग जाती है और इनसे पीछा छुड़ाना मुश्किल हो जाता है। विशेषज्ञ मानते हैं कि डोपामाइन का स्राव बढ़ने के कारण फोन हमारी आदत में शुमार हो जाता है और सोते-जागते फोन देखने का मन होता है।

अब स्मार्टफोन के संपर्क में रहने से कार्टिसोल का स्तर बढ़ने की बात भी सामने आई है। कार्टिसोल को स्ट्रेस हार्मोन कहा जाता है। इस हार्मोन के कारण दिल की धड़कन, ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर बढ़ जाता है। किसी खतरे की स्थिति में यही हार्मोन हमें बचने की प्रेरणा देता है। उदाहरण के तौर पर अगर किसी के पीछे कुत्ता पड़ जाए तो इस हार्मोन का स्राव बढ़ जाता है और प्रतिक्रिया में व्यक्ति बचने की कोशिश करता है। लेकिन भावनात्मक दबाव के क्षण में इसका स्तर बढ़ना सेहत के लिए सही नहीं होता।

वैज्ञानिकों का कहना है कि फोन के कारण कार्टिसोल का स्तर बढ़ना ज्यादा चिंताजनक है। यूनिवर्सिटी ऑफ कनेक्टिकट स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रोफेसर डेविड ग्रीनफील्ड ने कहा, "जब फोन आपके पास होता है, आप उसकी आवाज सुनते हैं या आवाज सुनने का अनुमान लगाते हैं, तब आपके शरीर में कार्टिसोल का स्तर बढ़ जाता है।"

From around the web